पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

रमन सिंह सरकार पर पीडीएस घोटाले का आरोप

रमन सिंह सरकार पर पीडीएस घोटाले का आरोप

रायपुर. 5 जुलाई 2015
 

raman singh

कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ की रमन सिंह सरकार पर सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) में घोटाला करने का आरोप लगाते हुए इसकी जाँच की सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में एक विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने की मांग की है. इसके साथ ही कांग्रेस ने इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री रमन सिंह से तत्काल इस्तीफा मांगा है.

कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने शनिवार को कहा, "इस घोटाले की सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में एसआईटी से जांच की हम मांग करते हैं, क्योंकि इस सबसे बड़े पीडीएस घोटाले का सच सामने लाने का यही एक रास्ता है. जांच निष्पक्ष हो, इसके लिए मुख्यमंत्री रमन सिंह को तत्काल मुख्यमंत्री पद से बर्खास्त किया जाए."

उन्होंने कहा, " भारत के सबसे बड़े पीडीएस घोटाले का पर्दाफाश छत्तीसगढ़ में हुआ है. छत्तीसगढ़ में रमन सिंह के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार ने दिखावे के लिए लोगों को एक रुपये प्रति किलोग्राम चावल उपलब्ध कराने की आड़ में चावल मिलों के मालिकों, पीडीएस दुकानों के मालिकों तथा सरकारी अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर भ्रष्टाचार की एक ऐसी मशीन का निर्माण किया, जिसकी मदद से रिश्वत तथा कमीशन के रूप में हजारों करोड़ रुपये की बंदरबांट हुई."

कांग्रेस नेता ने कहा कि इसी तरह का भ्रष्टाचार राज्य नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा अन्य सामानों जैसे नमक, चना, केरोसिन तथा गेहूं की खरीद में किया गया है.

उन्होंने कहा कि घोटाले की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि छत्तीसगढ़ में भाजपा के बीते 11 वर्षो के शासनकाल में राज्य नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा सरकारी खजाने से धान खरीद तथा विभिन्न पीडीएस वस्तुओं की आपूर्ति में लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपये खर्च हुए हैं.

माकन ने कहा, "इस तरह के गठजोड़ से मिल मालिकों तथा राशन दुकानदारों ने निम्न गुणवत्ता के चावल, नमक तथा अन्य वस्तुओं की आपूर्ति कर अवैध फायदा कमाया. इससे मुख्यमंत्री के नेतृत्व में राजनीतिज्ञों तथा अधिकारियों ने अवैध संपत्ति कमाई."