पहला पन्ना > > Print | Share This  

इंटरनेट कॉल्स पर रोक की सिफारिश

इंटरनेट कॉल्स पर रोक की सिफारिश

नई दिल्ली. 16 जुलाई 2015
 

aeroplane

व्हाट्सएप्प, वाइबर और स्काइप जैसी इंटरनेट मैसेंजर सेवाओं के माध्यम से घरेलू निशुल्क कॉल की सुविधा खत्म हो सकती है. एक आधिकारिक समिति ने सुझाव दिया है कि दर और नियमन के लिए इन मैसेंजर सेवाओं का दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों के अनुरूप मानकीकरण किया जाना चाहिए.

समिति ने हालांकि कहा, "इस नियमन से उनके द्वारा दी जा रही अन्य दूरसंचार सेवाओं पर बाधा नहीं आनी चाहिए. मौजूदा दूरसंचार लाइसेंस शर्तो के तहत इंटरनेट दूरभाष को सीमित शर्तो के साथ मंजूरी दी गई है. लेकिन ओटीटी के मूल्य निर्धारण (ओवर द टॉप) के साथ घरेलू वॉइस संचार सेवाओं में मौजूदा दूरसंचार आय के मॉडल को ध्वस्त करने की क्षमता है. "

तकनीक विशेषज्ञ ए.के.भार्गव की अध्यक्षता वाली समिति ने कहा कि दूरसंचार और इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनियों द्वारा उपलब्ध कराई गई टैरिफ योजनाओं को सरकार के इंटरनेट तटस्थता के सिद्धांतों पर खरा उतरना चाहिए.

उन्होंने कहा, "वैध यातायात प्रबंध गतिविधियों को मंजूरी दी जानी चाहिए, लेकिन इन्हें इंटरनेट तटस्थता के मुख्य सिद्धांतों के खिलाफ जांचा जाना चाहिए."

समिति ने हालांकि इंटरनेट मैसेंजर सेवाओं द्वारा किए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय कॉल के मामले में उदार व्यवस्था को कायम रखे रहने की सिफारिश की है.