पहला पन्ना >व्यापार > Print | Share This  

मैगी मामले में शुक्रवार को सुनवाई

मैगी मामले में शुक्रवार को सुनवाई

नई दिल्ली. 12 अगस्त 2015
 

मैगी

मैगी बनाने वाली कंपनी नेस्ले इंडिया पर सरकार द्वारा किए गए मुकदमे की सुनवाई शुक्रवार को होगी. यह जानकारी अधिकारियों ने दी.

केंद्र सरकार ने नेस्ले इंडिया पर मुकदमा दायर करते हुए आरोप लगाया है कि कंपनी ने अनुचित व्यापारिक तौर-तरीके अपनाए, उपभोक्ताओं को खराब सामान बेचे और बगैर मंजूरी के मैगी ओट्स नूडल बेचे.

केंद्रीय उपभोक्ता कार्य, खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा बुधवार को जारी बयान के मुताबिक, उसके उपभोक्ता कार्य विभाग ने राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निपटान आयोग (एनसीडीआरसी) में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा-12 (1) (डी) के अंतर्गत किया है.

शिकायतकर्ता ने कहा कि कंपनी 284,55,00,000 रुपये (284 करोड़ 55 लाख रुपए) की राशि देने के लिए उत्तरदायी है. इसके साथ ही सरकार ने कंपनी से 355,40,70,000 रुपये (355 करोड़ 40 लाख 70 हजार रुपए मात्र) की राशि घोर लापरवाही, उदासीनता और बेरुखी के लिए दंडात्मक जुर्माने के रूप में चुकाने की मांग की है.

इस प्रकार कंपनी पर सरकार ने 639,95,70,000 रुपये (639 करोड़ 95 लाख और 70 हजार रुपए) का कुल दावा किया है.

नेस्ले के प्रवक्ता ने कहा, "इस शिकायत की आधिकारिक तौर पर सूचना नहीं मिली है. आधिकारिक सूचना मिलने और अपने कानूनी टीम से राय लेने के बाद हम इस बारे में जवाब दे पाएंगे." सरकार ने यह मुकदमा देश के समस्त उपभोक्ताओं की ओर से किया है.