पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

सुकमा: नक्सल हमले में एक जवान शहीद

सुकमा: नक्सल हमले में एक जवान शहीद

रायपुर. 22 अगस्त 2015
 

विनोद मेहता

छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में शनिवार सुबह नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में एसटीएफ के सहायक प्लाटून कमांडर कृष्ण पाल सिंह शहीद हो गए और आरक्षक संतोष सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए. नक्सलियों ने राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच)-30 को भी अवरुद्ध कर दिया है.

पुलिस सूत्रों के अनुसार, दरभा थाने से एसटीएफ की आठवीं एवं नौवीं बटालियन की सर्चिग टीम झीरम घाटी की ओर रवाना हुई थी. थाने से दो किलोमीटर दूर बंजारिन मंदिर के पास नक्सली पेड़ गिराकर मार्ग अवरुद्ध कर घात लगाए हुए जवानों का इंतजार कर रहे थे.

एसटीएफ के जवान जैसे ही पेड़ को मार्ग से हटाने पहुंचे, नक्सलियों ने उन पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी. एक गोली सर्चिग टीम के कमांडर के.पी. सिंह के सिर में लगी. इसके बाद जवानों ने भी जमकर गोलीबारी की. मुठभेड़ में एसटीएफ का जवान संतोष सिंह घायल हो गया. उसे मेकाज अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मुठभेड़ में कुछ नक्सलियों के भी घायल होने की खबर है.

सूत्रों के अनुसार, हमलावर नक्सलियों की संख्या 100 से भी ज्यादा थी. वे झीरम घाटी में पूर्व की तरह फिर से बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे, लेकिन एसटीएफ के जवानों की सूझबूझ व अदम्य साहस ने उनके नापाक मंसूबों को नाकाम कर दिया.

नक्सलियों ने वारदात को अंजाम देने से पहले शुक्रवार आधी रात को ही पेड़ गिराकर राष्ट्रीय राजमार्ग-30 को अवरुद्ध कर दिया था और बारूदी विस्फोटों से सड़क को सूखे तालाब में तब्दील कर दिया. इस कारण वाहनों की आवाजाही पूरी तरह ठप हो गई है. सड़क के दोनों ओर वाहनों का जमावड़ा लगा हुआ है. यात्री जाम में फंसे हुए हैं. समाचार लिखे जाने तक मार्ग बहाल नहीं हो पाया था.

नक्सलियों ने सुकमा-दंतेवाड़ा मार्ग को भी बड़े-बड़े पेड़ गिराकर अवरुद्ध कर दिया है. इससे मार्ग के दोनों ओर वाहनों की कतार लगी हुई है. भूसारास घाटी के पास नक्सलियों ने सड़क पर गड्ढे भी खोद दिए हैं.

उल्लेखनीय है इसी झीरम घाटी में 25 मई, 2013 को नक्सलियों ने कांग्रेस नेताओं के काफिले पर हमला किया था, जिसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल सहित 32 लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद 11 मार्च, 2014 को नक्सलियों ने सुकमा जिले के टाहकवाड़ा में घात लगाकर हमला किया था, जिसमें एक ग्रामीण सहित 16 जवान शहीद हो गए थे. नक्सली जवानों के हथियार भी लूट ले गए थे.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in