पहला पन्ना > > Print | Share This  

सिख विरोधी दंगे: टाइटलर को राहत

सिख विरोधी दंगे: टाइटलर को राहत

नई दिल्ली. 11 सितंबर 2015
 

टाइटलर

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शुक्रवार को दिल्ली की एक अदालत को बताया कि 1984 के सिख विरोधी दंगों में कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर की कोई भूमिका नहीं थी. जांच एजेंसी उन्हें सिर्फ अनुमान और कल्पना के आधार पर मामले में शामिल नहीं बता सकती.


सीबीआई ने एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सौरभ प्रताप सिंह लालर की अदालत में बताया कि जांच के दौरान यह साबित हो गया कि टाइटलर नवंबर 1984 में गुरुद्वारा पुलबंगश पर हुए हमले में शामिल नहीं थे.

सीबीआई ने पहले ही टाइटलर को क्लीन चिट देते हुए मामले में अंतिम रिपोर्ट लगा दी थी. इसके खिलाफ दंगा पीड़ित लखविंदर कौर ने याचिका दायर की थी. इसी याचिका पर सुनवाई के दौरान सीबीआई ने बताया कि टाइटलर हमले में शामिल नहीं थे.

सीबीआई ने कहा कि उसने मामले की पूरी निष्पक्षता से जांच की है. सीबीआई ने कहा, "लेकिन, एक जिम्मेदार जांच एजेंसी की हैसियत वाली सीबीआई किसी निर्दोष को केवल अनुमानों और कल्पनाओं के आधार पर झूठे ही नहीं फंसा सकती."

सीबीआई ने अपने पक्ष में सुरेंद्र सिंह नाम के दंगा पीड़ित के बेटे नरेंद्र सिंह खेड़ा की गवाही दी. सुरेंद्र का देहांत हो चुका है.