पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

वाराणसी में बवाल, कर्फ्यू लगा

वाराणसी में बवाल, कर्फ्यू लगा

वाराणसी. 5 अक्टूबर 2015
 

विनोद मेहता

उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक नगरी व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कुछ दिनों पहले गणेश प्रतिमा के दौरान हुए लाठीचार्ज के विरोध में सोमवार को निकाली गई प्रतिकार यात्रा अराजकता की भेंट चढ़ गई. साधु-संतों के जुलूस के दौरान हुई हिंसक झड़प के बाद पुलिस ने शहर के चार थानाक्षेत्रों के तहत आने वाले इलाके में कर्फ्यू लगा दिया है.

वाराणसी के जिलाधिकारी राजमणि यादव ने चार थानाक्षेत्रों में कर्फ्यू लगाए जाने की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि जिन पुलिस स्टेशनों में कर्फ्यू लगाया गया है उनमें कोतवाली, दशाश्वमेध, लक्सा और चौक शामिल हैं. उन्होंने कहा कि मामला नियंत्रण में है लेकिन एहतियात के तौर पर चौकसी बरती जा रही है और लोगों को घरों से बाहर न निकलने की हिदायत दी गई है.

पुलिस के मुताबिक, गोदौलिया, गिरजाघर, चौक, दशाश्वमेधघाट मार्ग, मदनपुरा और बांस फाटक जैसे इलाकों में बैरिकेडिंग कर लोगों को जाने से रोका जा रहा है.

बताया जा रहा है कि पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच अब भी पथराव-फायरिंग जारी है. भगदड़ के दौरान साधु-संतों के साथ-साथ छह से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. कवरेज के दौरान कुछ पत्रकारों को भी चोटें आई हैं.

पिछले दिनों मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए लाठीचार्ज के विरोध में सोमवार को प्रतिकार यात्रा निकाली जा रही थी. इसमें हजारों लोग मौजूद थे. जुलूस के गोदौलिया पहुंचते ही कुछ अराजक तत्वों ने पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया.

पुलिस की जीप और चार बाइकों में आग लगा दी गई. मामला बढ़ता देख पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. इस दौरान भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस लगातार आंसूगैस के गोले और रबर बुलेट से फायरिंग करती रही. पुलिस ने 10 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है.

प्रतिकार यात्रा में देशभर के साधु-संतों के साथ ही साध्वी प्राची और चक्रपाणि महाराज भी शामिल थे. इस दौरान साध्वी प्राची ने कहा कि प्रशासन ने मूर्ति विसर्जन को लेकर रास्ता नहीं निकाला.

उन्होंने कहा कि जब तक मुख्यमंत्री अखिलेश खुद साधु-संतों पर हुए लाठीचार्ज के लिए माफी नहीं मांगते, तब तक आंदोलन चलता रहेगा. दादरी मामले को लेकर उन्होंने कहा कि एक तरफ काशी में संतों पर लाठियां बरसाई जाती हैं और दूसरी तरह सीएम गाय काटने वालों को 45 लाख रुपये देते हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in