पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

एशिया में बढ़ती हिंसा चिंता की बात: राहा

एशिया में बढ़ती हिंसा चिंता की बात: राहा

नई दिल्ली. 8 अक्टूबर 2015
 

अरूप राहा

भारतीय वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल अरूप राहा ने गुरुवार को 83वें वायुसेना दिवस परेड के मौके पर कहा कि एशिया-प्रशांत क्षेत्र में बढ़ती हिंसा भारत के लिए चिंता की बात है.

दिल्ली के नजदीक हिंडन वायुसेना अड्डे पर परेड के अवसर पर वायुसेना प्रमुख ने कहा, "वैश्विक सुरक्षा वातावरण में व्यापक बदलाव हुए हैं और इसका मुख्य असर एशिया-प्रशांत क्षेत्र पर पड़ा है. इस क्षेत्र में हिंसा का पुनरुत्थान हुआ है जो कि भारत के लिए चिंतनीय है."

वायुसेना प्रमुख ने कहा कि सामरिक बुनियादी ढांचे का विकास मुख्य रूप से जरूरी था और देश के उत्तरी और उत्तर पूर्वी हिस्से पर ज्यादा ध्यान केंद्रित किया जा रहा है.

इसी बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय वायुसेना के जवानों को सलाम करते हुए कहा कि देश के लिए उनका योगदान उल्लेखनीय है.

मोदी ने एक बयान में कहा, "वायुसेना दिवस पर मैं वायुसेना के जवानों को सलाम करता हूं. उन्होंने सदैव बेहद वीरता और निष्ठा के साथ देश की सेवा की है. आकाश की सुरक्षा की बात हो या आपदा की घड़ियां वे हमेशा सबसे आगे रहते हैं."

समारोह में राहा ने वायुसेना के 13 जवानों को वायुसेना पदक प्रदान किए. दो वीरता पुरस्कार मरणोपरांत प्रदान किए गए. राहा ने 19 वायुसेना पदक और 32 विशिष्ट सेवा पदक भी दिए.

परेड में वायुसेना के जवानों ने हवाई ड्रिल भी की जिनमें भारत के अग्रणी लड़ाकू विमानों ने प्रदर्शन किया. आकाश गंगा समूह के कलाबाजों के एक प्रदर्शन के साथ वायुसेना परेड का आगाज हुआ. चार हॉक वायुयानों वाली नई सूर्य किरण एक्रोबेटिक टीम (स्केट) ने कार्यक्रम में पहली बार प्रदर्शन किया. वायुयानों की कमी के चलते स्केट को चार वर्ष पूर्व खंडित कर दिया गया था.

 

वायुसेना दिवस आठ अक्टूबर 1932 को भारतीय वायुसेना की स्थापना की यादगार के तौर पर मनाया जाता है
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in