पहला पन्ना > > Print | Share This  

एशिया में बढ़ती हिंसा चिंता की बात: राहा

नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया-राहुल का झटका

नई दिल्ली. 7 दिसंबर 2015
 

sonia rahul

नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को सोमवार को उस वक्त झटका लगा जब दिल्ली उच्च न्यायालय ने उनकी एक याचिका खारिज कर दी. इस याचिका में कांग्रेस नेताओं ने निचली अदालत द्वारा खुद के खिलाफ जारी समन को रद्द करने का अनुरोध किया था.

इस मामले में शिकायतकर्ता भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी हैं. न्यायाधीश सुनील गौर ने याचिका खारिज कर दी. इसका अर्थ यह हुआ कि सोनिया और राहुल को निचली अदालत में पेश होना होगा.

सोनिया और राहुल के अलावा कांग्रेस कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा, आस्कर फर्नाडिस और सुमन दुबे को भी निचली अदालत में पेश होना होगा. इनके खिलाफ जारी समन को चुनौती देने वाली याचिका भी उच्च न्यायालय ने खारिज कर दी है.

निचली अदालत ने 26 जून को स्वामी की शिकायत पर समन जारी किए थे. स्वामी का आरोप है कि यंग इंडिया लिमिटेड (वाईआईएल) द्वारा एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) का अधिग्रहण 'धोखाधड़ी' है और 'यंग इंडिया में सोनिया और राहुल की 38-38 फीसदी की हिस्सेदारी है.'

सोनिया गांधी के वकील कपिल सिब्बल ने अदालत में कहा कि निचली अदालत द्वारा सोनिया व अन्य के खिलाफ जारी समन को रद्द कर दिया जाना चाहिए. स्वामी ने इनके खिलाफ जो शिकायत दर्ज की है, वह महज आरोप है जिसका कोई सबूत नहीं है.

उन्होंने कहा कि कंपनी एक्ट के तहत यंग इंडिया लिमिटेड (वाईआईएल) द्वारा एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) के अधिग्रहण में कुछ भी कानून के खिलाफ नहीं है.

एजेएल नेशनल हेराल्ड अखबार प्रकाशित करती थी. यह अखबार छपना बंद हो चुका है.