पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

पाकिस्तानी सिम, हथियार सहित तीन गिरफ्तार

कांग्रेस किसी की बपौती नहीं: अमित जोगी

रायपुर. 6 जनवरी 2016
 

अमित जोगी

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी की बुधवार को हुई एक महत्वपूर्ण बैठक में विधायक अमित जोगी को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया.  
 

अमित ने निष्कासन के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में कहा, "कांग्रेस किसी की बपौती नहीं है. वह इस फैसले के खिलाफ एआईसीसी में अपील करेंगे. इसके लिए उनके पास तीन सप्ताह का समय है."

 

इस बैठक में अमित जोगी के पिता राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रहे अजीत जोगी के निष्कासन का प्रस्ताव पारित किया गया है, जिसे एआईसीसी को भेजा जाएगा.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के इस फैसले के बाद अमित जोगी के समर्थकों में जहां निराशा है, वहीं कई नेताओं ने खुल कर इस फैसले पर आपत्ति जताई है.

कांग्रेस विधायक सियाराम कौशिक ने इस फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है, और उन्होंने कहा कि यह अंतिम फैसला नहीं है. इस बीच सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टी.एस. सिंघदेव दिल्ली रवाना हो गए हैं.

उन्होंने कहा, "मैं इस निर्णय से आहत हूं. सामंती और जमींदारी प्रथा के लोगों की जीत हुई है, जबकि दलित, शोषित, पीड़ित आदिवासी हार गया. बिना आरोप जांचे, पुष्टि और प्रमाण के यह निर्णय दोषपूर्ण और अन्यायपूर्ण है. मैं पूरी ताकत से गरीबों की आवाज उठाता रहूंगा. हमारे पास अपील करने का अधिकार है. मुझे कांग्रेस हाईकमान, विशेष कर सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर पूरा विश्वास है कि मुझे न्याय मिलेगा. पीसीसी का निर्णय नैसर्गिक न्याय के खिलाफ है."

उल्लेखनीय है कि अंतागढ़ टेपकांड के बाद से ही जोगी के खिलाफ कार्रवाई के कयास लगाए जा रहे थे. इस लिहाज से बुधवार की बैठक पर सबकी नजर टिकी हुई थी.