पहला पन्ना > राजनीति > आतंकवाद Print | Send to Friend | Share This 

शैतानी हथियारों से पाबंदी की कोशिश- ईरान

शैतानी हथियारों से पाबंदी की कोशिश- ईरान

तेहरान. 27 अप्रैल 2010


ईरान के राष्ट्रपति अहमदीनेजाद ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा उनके देश के खिलाफ लाये जा रहे चौथे दौर की पाबंदी के लिये अमरीका और स्थाई सदस्यों द्वारा हासिल वीटो पॉवर शैतानी औजार है.
अहमदीनेजाद

उल्लेखनीय है कि ईरान द्वारा परमाणु हथियार बनाने की कोशिशों का पिछले कुछ सालों से लगातार विरोध हो रहा है. अमरीका ने तो इस मुद्दे पर ईरान को सीधे-सीधे कार्रवाई झेलने तक की चेतावनी भी दी है. इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र ईरान के खिलाफ 3 दौर की पाबंदी लगा चुका है. अब ईरान के खिलाफ चौथे दौर के पाबंदी की तैयारी हो रही है.

दूसरी ओर ईरान का दावा है कि वह केवल परमाणु शक्ति बनाने वाली तकनीक हासिल करना चाहता है. ईरान की राष्ट्रीय सुरक्षा की उच्च परिषद के सचिव सईद जलीली ने कहा है कि अन्यायपूर्ण संबन्धों और कुछ देशों के भेदभावपूर्ण व्यवहार चिंताजनक हैं.

इससे पहले व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा था कि ईरान पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के नए प्रतिबंध जल्दी ही लगाए जाने की संभावना है. व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव रॉबर्ट गिब्स ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय कई बार ईरान सरकार से कह चुका है कि वह अपने दायित्वों का निर्वहन करे लेकिन तेहरान परमाणु हथियारों संबंधी अपने अंतरराष्ट्रीय दायित्वों को पूरा नहीं कर रहा. इसके बाद कई कंपनियों ने ईरान के साथ व्यापार न करने का एकपक्षीय फैसला लिया है.

पिछले सप्ताह ही अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा था कि ईरान पर संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध प्रस्तावों के मसले पर चीन का रवैया सहयोगपूर्ण है. ओबामा के अनुसार ईरान के तेल संपन्न देश होने के कारण चीन समेत तमाम देश उस पर प्रतिबंध लगाए जाने की सूरत में इसका अप्रत्यक्ष असर अपनी-अपनी अर्थव्यवस्थाओं पर पडने की आशंका से निश्चिंत हैं. इस आशंका के बावजूद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मौजूद ज्यादातर देश ईरान पर प्रतिबंधों को लगाना जरूरी और सही कदम मानते हैं.