पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

रेल बजट: भाड़े नहीं सुविधाएं बढ़ीं

रेल बजट: भाड़े नहीं सुविधाएं बढ़ीं

नई दिल्ली. 25 फरवरी 2016
 

भारतीय रेल

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेल बजट 2016-17 में यात्री किराया और माल भाड़े में कोई बदलाव न करते हुए यात्री सुविधा पर ध्यान दिया है.

लोकसभा में गुरुवार को रेल बजट भाषण में उन्होंने संचालन अनुपात के बारे में उन्होंने कहा, "सातवें वेतन आयोग के प्रभाव के कारण 2016-17 में हमें 92 फीसदी संचालन अनुपात रहने की उम्मीद है, जबकि वर्तमान वित्त वर्ष में यह 90 फीसदी रहने का अनुमान है." उन्होंने वर्तमान वित्त वर्ष के लिए संचालन अनुपात का लक्ष्य 88.5 फीसदी रखा था.

प्रभु ने विकास परियोजनाओं के लिए योजनागत व्यय को करीब 1.21 लाख करोड़ रुपये कर दिया. उन्होंने कहा, "इस साल हमारा निवेश पिछले वर्षो के औसत का लगभग दोगुना होगा. पहले कभी ऐसा नहीं हुआ था." उन्होंने रेलवे की कुल आय भी आगामी वित्त वर्ष में 10 फीसदी अधिक रहने की उम्मीद जताई.

प्रभु ने कहा, "भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) अत्यधिक अनुकूल शर्तो पर अगले पांच साल में 1.5 लाख करोड़ रुपये निवेश करने के लिए सहमत हुआ है. हम परियोजनाओं के वित्तीयन के लिए बहुपक्षीय सहयोग से एक कोष स्थापित करने पर विचार कर रहे हैं."

रेल बजट की तारीफ के पुल बांधते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "इस साल हम काफी हद तक सफल रहे हैं. इस बजट में इसे और आगे बढ़ाने का भरोसा दिलाया गया है."

बजट की आलोचना करते हुए हालांकि पूर्व रेल मंत्री और तृणमूल कांग्रस नेता दिनेश त्रिवेदी ने कहा, "वास्तविक बजट कहां है? क्या आपने कोई आंकड़ा सुना, जो बताए कि पिछले साल क्या हासिल हुआ और इस साल का बजट क्या है? हमें अब भी बजट का इंतजार है."

प्रभु ने कहा, "अगले वित्त वर्ष में हम 2,800 किलोमीटर नए रेल मार्ग पर सेवा शुरू करना चाहते हैं." उन्होंने रोजाना 7 किलोमीटर रेल मार्ग बनाने का वादा किया, जबकि 2008 के बाद से यह गति रोजाना 4.3 किलोमीटर थी.

उन्होंने रेलगाड़ियों में 65 हजर अतिरिक्त बर्थ, 2,500 वाटर वेंडिंग मशीन, रेल डिब्बों में 17 हजार जैविक शौचालय, 1,780 ऑटोमेटिक टिकटिंग मशीन, एक बार में 1,20,000 उपयोगकर्ताओंको ई-टिकट देने की सुविधा और 408 स्टेशनों पर ई-कैटरिंग सुविधा देने की भी घोषणा की.

उन्होंने कहा कि प्रत्येक रेलगाड़ी में वरिष्ठ नागरिकों के लिए लोवर बर्थ का कोटा 50 फीसदी बढ़ाकर 120 किया जाएगा और वरिष्ठ नागरिकों तथा विकलांग यात्री योजना के दायरे में और अधिक स्टेशनों को शामिल किया जाएगा और तेजस नाम से नई ट्रेन शुरू की जाएगी.

अन्य घोषणाओं में शामिल हैं 100 और स्टेशनों पर इस साल वाईफाई और अगले वित्त वर्ष में 400 स्टेशनों पर, व्यस्त मार्गो पर सभी साधारण श्रेणी के डिब्बे वाली रेलगाड़ी, महिलाओं के लिए 24 घंटे हेल्पलाइन, स्टेशनों पर स्थानीय कला, कुलियों का सम्मान और तीर्थस्थलों पर बेहतर सुविधा
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in