पहला पन्ना > > Print | Share This  

कोलकाता: निर्माणाधीन पुल गिरा, कई हताहत

कोलकाता: निर्माणाधीन पुल गिरा, कई हताहत

कोलकाता. 31 मार्च 2016
 

कोलकाता हादसा

कोलकाता के भीड़भाड़ वाले इलाके में एक निर्माणाधीन पुल (फ्लाईओवर) का एक हिस्सा गुरुवार को भरभरा कर गिर गया, जिसके नीचे बड़ी संख्या में लोग और वाहन दब गए.

इस हादसे में अब तक कम से कम 14 लोगों की मौत हो गई और 100 से अधिक घायल हो गए. अभी भी मलबें में कई लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है जिससे मरने वालों की संख्या में और वृद्धि हो सकती है.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पश्चिमी मिदनापुर जिले की चुनावी रैलियां रद्द करके तत्काल कोलकाता रवाना हुईं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हादसे पर गहरा शोक प्रकट किया है.

सेना बचाव कार्य में जुट गई है. सेना की दर्जनों मेडिकल टीमें और इंजीनियर बचाव अभियान में लगाए गए हैं. पुलिस और सैन्य एंबुलेंसों ने घटनास्थल पर तत्काल पहुंचकर गंभीर रूप से घायलों को अस्पताल पहुंचाया.

सैकड़ों स्थानीय नागरिक मलबे के ढेर के नीचे फंसे लोगों को बचाने के लिए पुलिस और बचाव कर्मचारियों के पहुंचने से पहले ही शहर के सबसे उत्तरी इलाके में स्थित पोस्ता इलाके में घटनास्थल पर पहुंच गए.

रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि जवान टनों स्टील और कंक्रीट के नीचे दबे लोगों को बचाने के लिए विशेष उपकरण का प्रयोग कर रहे हैं.

घटनास्थल पर मौजूद एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि उसने 10-12 लोगों को मलबे के नीचे से निकाले जाते देखा है, लेकिन कहा नहीं जा सकता कि वे जीवित हैं या नहीं.

दुर्घटना स्थल बेहद भयावह लग रहा था. मलबे में मानव शरीर के अंग बिखरे हुए थे और सड़कों पर खून बिखरा हुआ था.

एक वीडियो में दिखाई दिया कि किस प्रकार विवेकानंद फ्लाईओवर बेहद तेज आवाज के साथ अचानक भरभरा कर गिर पड़ा और उसके नीचे मौजूद लोगों में से किसी को भी बचने का मौका नहीं मिला.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया, "अचानक एक तेज धमाकेदार आवाज हुई और उसके साथ ही विवेकानंद फ्लाईओवर भरभरा कर गिर गया." प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक, "फ्लाईओवर के मलबे के नीचे 100 से भी ज्यादा लोग दबे हो सकते हैं. काफी लोग हताहत हुए हैं."

पूरी सड़क पर फ्लाईओवर का मलबा गिरा होने के कारण बचाव अभियानों में भी काफी बाधा पहुंच रही है. क्रेनें भी घटनास्थल तक नहीं पहुंच पा रही थीं. बाद में लोगों ने मानव श्रृंखला बनाकर जवानों को घटनास्थल तक पहुंचने में मदद की.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मृतकों के परिजनों के लिए पांच लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को दो लाख रुपये और मामूली रूप से घायलों को एक लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है.