पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

कोल्लम-आग लगने से 110 की मौत

कोल्लम-आग लगने से 110 की मौत

कोल्लम. 10 अप्रैल 2016
 

आग

केरल के कोल्लम जिले स्थित पुत्तिंगल मंदिर में रविवार तड़के लगभग साढ़े तीन बजे बिना अनुमति आतिशबाजी की गई, जिसकी बारूदी चिंगारी ने भयंकर आग की शक्ल ले ली. इस हादसे में करीब 110 लोगों की मौत गई और 350 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं, जिनमें से कई की हालत नाजुक है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हालात का जायजा लेने और मृतकों के प्रति शोक जताने के लिए विमान से कोल्लम पहुंचे. अधिकारियों ने बताया कि उनके साथ 15 चिकित्सकों की टीम भी घटनास्थल पर पहुंची है.

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, आग कोल्लम जिले के तटीय शहर परावूर स्थित पुत्तिंगल मंदिर में रविवार तड़के 3.30 बजे तब लगी, जब वहां हो रही आतिशबाजी से एक चिंगारी निकलकर उस इमारत में जा गिरी, जहां उत्सव मनाने के लिए बड़ी संख्या में उच्च क्षमता वाले पटाखे रखे थे.

आतिशबाजी के बीच देखते ही देखते पटाखों में धमाके शुरू हो गए और भयंकर आग लग गई. कुछ ही पलों में पूरी इमारत धराशायी हो गई.

मंदिर में रविवार तड़के शुरू हुई आतिशबाजी देखने के लिए हजारों लोग इकट्ठा हुए थे. पुत्तिंगल देवी को समर्पित यह मंदिर आमतौर पर सुबह पांच बजे खुलता है.

मंदिर परिसर में चल रहे उत्सव को कवर कर रहे पत्रकार लल्लू एस.पिल्लई ने बताया कि यह भयावह हादसा होने में सिर्फ चंद मिनट लगे. वह उस वक्त पास के एक मकान की छत पर कैमरामैन के साथ खड़े थे.

पिल्लई ने कहा, "आतिशबाजी खत्म होने में केवल आधा घंटा बाकी रह गया था, उसी दौरान एक पटाखे से एक चिंगारी उड़कर उस इमारत में जा गिरी, जहां बड़ी संख्या में उच्च क्षमता वाले पटाखे रखे हुए थे."

उन्होंने कहा, "कुछ ही मिनटों में इमारत ढहने लगी और हमने वहां कंपन महसूस की."

पिल्लई ने कहा, "इसके बाद वहां एकदम से कोहराम मच गया. धमाकों से कंक्रीट के टुकड़े पूरी जगह में फैल गए."

उन्होंने बताया कि वहां से आधे किलोमीटर के दायरे में मौजूद कई मकान क्षतिग्रस्त हो गए.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in