पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

आत्मचिंतन नहीं, कड़े फैसले लेना जरूरी: दिग्विजय

आत्मचिंतन नहीं, कड़े फैसले लेना जरूरी: दिग्विजय

नई दिल्ली. 20 मई 2016
 

दिग्विजय

विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी को मिली हार के बाद कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने 'बड़ी सर्जरी' की जरूरत बताने के एक दिन बाद शुक्रवार को कहा कि आत्मनिरीक्षण बहुत हुआ, अब कार्रवाई की जरूरत है.

उन्होंने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनावों में मिली हार के बाद से ही काफी आत्मनिरीक्षण हो चुका है और अब पार्टी को कार्रवाई करने की जरूरत है.

सिंह ने इंडिया टुडे टीवी को दिए गए एक साक्षात्कार में कहा, "आत्मनिरीक्षण बहुत हो चुका, अब हमें कार्रवाई करने की जरूरत है और कार्रवाई का फैसला अध्यक्ष (सोनिया गांधी) और उपाध्यक्ष (राहुल गांधी) करेंगे."

दिग्विजय सिंह की यह टिप्पणी सोनिया गांधी के एक दिन पहले दिए गए इस बयान के बाद आई है जिसमें उन्होंने असम, केरल, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में मिली हार के बाद आत्मनिरीक्षण की बात कही थी.

सिंह ने कहा, "मैं जो भी कह रहा हूं, उसे हजारों दूसरे लोग भी कह रहे हैं. इसलिए अगर मैं सर्जरी की बात कहता हूं तो यह सर्जन ही फैसला करेगा कि क्या सर्जरी करनी है. अगर वह करना चाहे तो."

सिंह ने कहा कि उन्हें सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व पर पूरा यकीन है.

पार्टी में लंबे समय से यह मांग उठ रही है कि प्रियंका गांधी अधिक सक्रिय भूमिका निभाएं. इस पर दिग्विजय सिंह का कहना है कि यह फैसला प्रियंका को ही करना है. उन्होंने कहा, "उनके (प्रियंका ) पास करिश्मा है, वह मुखर हैं और इंदिरा गांधी और उनमें काफी समानता है."
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in