पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय > Print | Share This  

नकली क्रेडिट कार्डों से 86 अरब लूटे

नकली क्रेडिट कार्डों से 86 अरब लूटे

टोक्यो. 23 मई 2016. बीबीसी
 

एटीएम

जापान में जाली क्रेडिट कार्ड की मदद से एटीएम मशीनों से 1.4 अरब येन (क़रीब 86 करोड़ रुपये) निकाल लिए गए.

क्योदो समाचार एजेंसी के मुताबिक, ये रक़म तीन घंटे के अंदर जापान के विभिन्न शहरों के 1400 एटीएम मशीनों से निकाली गई.

रक़म निकालने के लिए 7-इलेवन कैश मशीनों को निशाना बनाया गया, जो जापान की अधिकांश कैश मशीनों से उलट विदेशी कार्ड को स्वीकार करती हैं.

पैसे निकालने वालों ने दक्षिण अफ़्रीकी बैंकों से डाटा चुराकर उनके जाली एटीएम बनाए थे.

दक्षिण अफ़्रीका के स्टैंडर्ड बैंक का अनुमान है कि उसे 192.4 लाख डॉलर (क़रीब 1.30 अरब रुपये) का नुक़सान हुआ है.

क्योदो के अनुसार, पुलिस को संदेह है कि इस घटना में जापान के अलग अलग हिस्सों में मौजूद 100 से ज़्यादा लोग शामिल थे. यह घटना 15 मई की है.

जांच एजेंसियों के सूत्रों का हवाला देते हुए समाचार एजेंसी ने कहा है कि 1400 निकासियों में हर बार क़रीब एक लाख येन (क़रीब 61 हज़ार रुपये) निकाले गए.

स्टैंडर्ड बैंक ने इस जालसाजी को बहुत ही चालाकी भरा संगठित फर्जीवाड़ा बताया है, जिसमें बैंक खातों के जाली कार्ड बनाए गए थे.

बैंक का कहना है कि ये कार्ड बहुत 'थोड़ी संख्या' में बनाए गए थे. लेकिन बैंक ने कहा है कि उपभोक्ताओं को इससे कोई नुकसान नहीं हुआ है.

बयान जारी कर बैंक ने कहा है, "स्टैंडर्ड बैंक ने इस मामले को नियंत्रित करने के लिए क़दम उठाए हैं."

जापानी पुलिस संदिग्धों की शिनाख़्त के लिए सीसीटीवी फ़ुटेज खंगाल रही है. इसके अलावा दोनों देशों की पुलिस इंटरपोल के साथ मिलकर जांच कर रही है कि बैंक डाटा कैसे चोरी हुई और इतने संगठित तरीक़े से जालसाजी कैसे हुई.
अभी तक मामले में किसी की गिरफ़्तारी नहीं हुई है.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in