पहला पन्ना > > Print | Share This  

अमित शाह का दलित भोज नाटक: मायावती

अमित शाह का दलित भोज नाटक: मायावती

नई दिल्ली. 29 मई 2016
 

अमित शाह

भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भाजपा के दलित प्रेम को नई धार देने पहुंचे. उन्होंने यहां एक दलित के घर आयोजित 'समरसता भोज' में कुछ पार्टी पदाधिकारियों के साथ भोजन किया.

भाजपा के राजनीतिक विरोधियों ने इस भोज के लिए शाह की आलोचना की और उनके दलित प्रेम को ढोंग और नौटंकी करार दिया है.

शाह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र में जोगियापुर गांव में गिरिजा प्रसाद बिंद नामक दलित के घर दोपहर का भोजन किया. शाह ने इससे पहले उज्जैन के सिंहस्थ महाकुंभ में दलित संतों के साथ शिप्रा नदी में स्नान किया था.

गिरजा प्रसाद बिन्द ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि उनका पूरा परिवार दो साल पूर्व अपना दल में था, लेकिन लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से प्रभावित होकर वे भाजपा में शामिल हो गए.

शाह के इस दलित प्रेम को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ढोग करार दिया.

अखिलेश ने लखनऊ में संवाददाताओं से कहा, "सपा के नेता दलितों के घर खाना खाने का ढोग नहीं करते. इसके पहले भी एक नेता दलितों के घर बिसलरी की बोतल के साथ खाना खा चुके हैं. चुनाव में परिणाम क्या आया, किसी से छिपा नहीं है."

 

बसपा प्रमुख मायावती ने भी इसे नाटक बताया है.