पहला पन्ना > > Print | Share This  

फैसले से असंतुष्ट हैं जाकिया जाफरी

फैसले से असंतुष्ट हैं जाकिया जाफरी

अहमदाबाद. 2 जून 2016
 

जाकिया जाफरी

गुलबर्ग सोसायटी हत्याकांड मामले में गुरुवार को सुनाए गए फैसले के बारे में जकिया जाफरी ने अदालत के फैसले से संतुष्ट नहीं हैं. जाकिया जाफरी इस हत्याकांड में मारे गए कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी की विधवा हैं.

गुरुवार को इस मामले में फैसना आने के बाद उन्होंने कहा कि विशेष अदालत द्वारा बरी किए गए कई लोग साल 2002 में हुए दंगे में शामिल थे. जाफरी ने कहा कि वह गुजरात उच्च न्यायालय में याचिका दायर करेंगी.

अहमदाबाद में संवाददाताओं से जाफरी ने कहा, "हम अंतिम सांस तक मुकदमा लड़ेंगे."

उनके पास बचे विकल्प के बारे में पूछे जाने पर जाफरी ने कहा, "तीस्ता सीतलवाड़ तथा दिल्ली के एक मशहूर वकील के साथ मिलकर इस मुकदमे को लड़ना जारी रखेंगे."

जाफरी ने यह भी कहा कि एक पार्टी के रूप में कांग्रेस ने मामले में कभी हस्तक्षेप नहीं किया.

एक विशेष अदालत ने साल 2002 में गुलबर्ग सोसायटी हत्याकांड में 66 आरोपियों में से 36 को बरी कर दिया. गुलबर्ग सोसायटी दंगे में एहसान जाफरी सहित 69 लोग मारे गए थे.

अदालत ने 24 आरोपियों को दोषी करार दिया, जिसमें एक विश्व हिंदू परिषद (विहिप) का नेता अतुल वैद्य भी शामिल है.