पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

मायावती पर बिगड़े बोल: हटाए गए दयाशंकर

मायावती पर बिगड़े बोल: हटाए गए दयाशंकर

नई दिल्ली. 20 जुलाई 2016
 

मायावती

उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह की बहुजन समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मायावती पर अमर्यादित टिप्पणी पर मचे बवाल के बाद पार्टी ने दयाशंकर सिंह को पद से हटा दिया है.

गौरतलब है कि दयाशंकर सिंह ने मऊ में एक प्रेसवार्ता में कहा था, "मायावती, कांशीराम का नाम बदनाम कर रहीं हैं, विधानसभा के टिकट को लेकर हर रोज नए रेट तय हो रहे हैं. किसी से एक करोड़ रुपए में तय होने के बाद अगर कोई दूसरा 2 करोड़ रुपए देने के लिए तैयार हो जाता है तो फिर एक करोड़ वाले को धोखा दे दिया जाता है. इस तरह तो एक वेश्या भी अपनी जुबान से नहीं पलटती है. उन्होंने कहा कि मायावती की बात की कीमत एक वेश्या की बात की कीमत से भी बदतर है."

इस बारे में बोलते हुए मायावती ने बुधवार को राज्यसभा में कहा, "भाजपा नेता ने यह बयान मायावती के लिए नहीं, बल्कि अपनी बेटी-बहन के लिए कहे हैं. पूरा देश भाजपा को माफ नहीं करेगा. माफी मांगने से कुछ नहीं होगा. भाजपा नेतृत्व उन्हें पार्टी से निकाले. भाजपा नेता संज्ञान लें और कार्रवाई करें वर्ना लोग सड़कों पर उतरे तो मेरी जिम्मेदारी नहीं होगी. "

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, "यह गलत है, मैं इसके लिए माफी मांगता हूं. ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए."

मौर्य ने अपने प्रेस बयान में दयाशंकर सिंह के बयान पर खेद व्यक्त किया है. उन्होंने प्रदेश के सभी पार्टी पदाधिकारियों तथा कार्यकर्ताओं के लिए कड़े ़निर्देश जारी किए हैं. उन्होंने सभी से विरोधी दलों या नेताओं की कार्यशैली को लेकर अपने वक्तव्य व भाषण में संयत, संतुलित तथा मर्यादित भाषा का ही प्रयोग किए जाने की कड़ी हिदायत दी है.

 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in