पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

कश्मीरी अखबारों के निशाने पर भारत सरकार

कश्मीरी अखबारों के निशाने पर भारत सरकार

श्रीनगर. 20 सितंबर 2016 बीबीसी
 

kashmir

कश्मीर के अख़बार उड़ी में हुए चरमपंथी हमले के बाद भारत सरकार के रवैये की आलोचना कर रहे हैं.

भारत ने 18 सितंबर को उड़ी में हुए चरमपंथी हमले के लिए पाकिस्तान को ज़िम्मेदार ठहराया है. इस हमले में 18 सैनिकों की मौत हो गई थी.

भारत और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के अख़बार मानते हैं कि भारत को पहले अपने घर को दुरुस्त करना चाहिए और फिर दूसरों पर उंगली उठानी चाहिए.

अंग्रेज़ी भाषा का अख़बार राइज़िंग कश्मीर कहता है, "अपनी-अपनी राजनीतिक विचारधाराओं से हटकर सभी कश्मीरी मानते हैं कि भारत सरकार कश्मीर मसले को लेकर कभी गंभीर नहीं रही है. इसीलिए वो विभिन्न पक्षकारों के साथ सार्थक संवाद से बचती रही है."


कश्मीर टाइम्स ने 19 सितंबर के अपने संपादकीय में लिखा, "उड़ी हमला कश्मीर मसले से 'असफल और अपर्याप्त तरीके से निपटने' के एक प्रतिबिंब की तरह है."


अख़बार आगे लिखता है कि, "ऐसा सोचना मूर्खतापूर्ण होगा कि भारत उड़ी मामले पर संयुक्त राष्ट्र महासभा या किसी अन्य फ़ोरम में अंतरराष्ट्रीय सहानुभूति बटोरने में क़ामयाब रहेगा."


पाकिस्तानी कश्मीर के अख़बारों ने उड़ी हमले के बाद भारत के रुख की निंदा की है.


मीरपुर के उर्दू अख़बार शाहीन ने लिखा है, "भारत कश्मीर में हो रही बर्बरता से लोगों का ध्यान हटाने के लिए उड़ी के बहाने नए हथकंडे अपना रहा है.


मुज़फ़्फ़राबाद के उर्दू अख़बार मुहासिब ने 20 सितंबर के संपादकीय में लिखा, "ऐसे लोगों से क्या उम्मीद की जा सकती है जिनके बच्चे अंधे होकर अस्पतालों में पड़े हैं और जिनका भविष्य क़ब्रों में दफ़्न है."

 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in