पहला पन्ना > > Print | Share This  

वाराणसी में भगदड़, 24 की मौत

वाराणसी में भगदड़, 24 की मौत

वाराणसी. 15 अक्टूबर 2016. बीबीसी
 

stampede

वाराणसी में राजघाट पुल पर मची भगदड़ में 24 लोगों की मौत हो गई है. एक धार्मिक आयोजन में हिस्सा लेने बड़ी संख्या में लोग आए थे. जब ये लोग आयोजन के बाद लौट रहे थे तब ये हादसा हुआ.

उत्तर प्रदेश में आईजी(क़ानून व्यवस्था) हरि राम शर्मा ने बीबीसी संवाददाता मोहनलाल शर्मा को बताया , ''मरने वालों में 19 महिलाएं है और पांच पुरुष है. इस घटना में कई लोग घायल हुए है और उनका इलाज अस्पताल में चल रहा है.''

आईजी(क़ानून व्यवस्था) हरि राम शर्मा का कहना था, ''ये घटना डुमरिया में दोपहर में करीब एक बजे हुई. जहां बाबा जय गुरुदेव के अनुयायियों का समागम था. इन श्रृद्धालुओं का जुलूस जब जा रहा था तभी एक महिला पुल पर गिर गई जिसके बाद भगदड़ मच गई. ''

जब उनसे पूछा गया कि क्या इस तरह के जुलूस की अनुमति दी गई थी तो उनका कहना था कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है लेकिन मामले के लिए एक उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए गए हैं.
स्थानीय पत्रकार रौशन जयसवाल के मुताबिक शनिवार को चंदौली के मुगलसराय थाना क्षेत्र के कटेसर में एक धार्मिक समागम में हिस्सा लेने बड़ी संख्या में श्रद्धालु जा रहे थे जो राजघाट पुल पर लगे जाम में फंस गए.
आरोप है कि पुलिस ने जाम छुड़ाने के लिए रास्ता बंद कर दिया और श्रद्धालुओं को खदेड़ने लगे, तभी भगदड़ मच गई.

वाराणसी के सीएमओ वी वी सिंह ने स्थानीय पत्रकार रौशन जायसवाल को बताया कि इस घटना में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है.

घायलों का इलाज रामनगर स्थित लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल, बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में चल रहा है.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्विटर पर भगदड़ में मरने वालों के लिए शोक जताया है.

उन्होंने लिखा, "वाराणसी की घटना से बेहद दुखी हूं. भगवान मरने वालों की आत्मा को शांति दे. घायलों के जल्द ठीक हो जाने की प्रार्थना करता हूं. मैंने अधिकारियों से बात की है और भगदड़ से प्रभावित होने वालों की हर संभव मदद करने को कहा है."

प्रधानमंत्री ने भगदड़ में मरने वालों के परिवार वालों को दो लाख रुपए और घायलों को 50 हज़ार रुपए का मुआवज़ा देने की घोषणा की है. इसके अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव ने भी मरने वालों के परिवार को 5-5 लाख रुपए और घायलों के मुफ़्त इलाज का ऐलान किया.