पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

पाक के शायद दस टुकड़े हो जाएंगे: राजनाथ

पाक के शायद दस टुकड़े हो जाएंगे: राजनाथ

नई दिल्ली. 12 दिसंबर 2016. बीबीसी
 

rajnath singh

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि पाकिस्तान 'आतंकवाद' के ज़रिए भारत को अस्थिर करने की कोशिशें कर रहा है.

रविवार को भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर के कठुआ में 'शहीद दिवस' पर बोलते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, "आतंकवाद के सहारे वो जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग करना चाहते हैं. आतंकवाद बहादुरों का नहीं कायरों का हथियार होता है."

समाचार एजेंसियों के अनुसार उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को करगिल युद्ध में हार का सामना करना पड़ा था और वो समझ चुका है कि भारत को सीधे पराजित नहीं किया जा सकता है.

उन्होंने कहा, "अभी तो पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए हैं अगर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आया तो पाकिस्तान के शायद दस टुकड़े हो जाएँ..."

राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान भारत को धर्म के आधार पर बांटने की कोशिश कर रहा है.

राहल गांधी का आरोप

कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने राजनाथ सिंह के बयान का जवाब ट्विटर पर दिया.

उन्होंने ट्वीट में लिखा, "हां राजनाथ सिंह जी, पाकिस्तान धर्म के नाम पर भारत को तोड़ने की कोशिश कर रहा है. क्या आपको इस बात का आभास है कि आप और आपके बॉस भी यही कर रहे हैं?"

राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान पर बार-बार संघर्षविराम के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए कहा था, "कभी न कभी पाकिस्तान भी हमारे ही परिवार का अंग रहा है, लेकिन हम उसे अलग नहीं मानते. उन पर गोली चलाना नहीं चाहते. कारगिल युद्ध के बाद अटल जी ने पाकिस्तान की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाया लेकिन उन्होंने बदले में क्या दिया? संघर्षविराम का उल्लंघन."

राजनाथ सिंह ने ये भी कहा था कि पाकिस्तान यदि 'आतंकवाद' से निपटने के लिए भारत का सहयोग चाहता है तो भारत मदद करने के लिए तैयार है.

पिछले कई महीनों से भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पर तनाव चल रहा है. दोनों ही देश एक दूसरे पर अंदरूनी मामलों में दख़ल देने का आरोप लगाते रहे हैं.

 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in