पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

माफ़ी की वह माँग तो भाव-विभोर करने वाली थी

संघर्ष को रचनात्मकता देने वाले अनूठे जॉर्

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अर्थ > Print | Share This  

एयर एशिया करा रही 99 रुपए में सफर

ईरान-ईराक में भूकंप से भारी तबाही

तेहरान. 13 नवंबर 2017
 

ईरान-इराक़ में आए भूकंप में मरने वालों की संख्या बढ़कर 396 तक पहुंच गई है. मरने वालों में से ज़्यादातर लोग ईरान के पश्चिमी प्रांत करमनशाह के हैं.  वहीं इराक़ में अभी तक नौ लोगों के मरने की पुष्टि हुई है.

ईरान की सरकारी न्यूज़ एजेंसी ने एक अधिकारी के हवाले से बताया कि क़रीब 7,000 लोग घायल हैं. वहीं एक सहायता एजेंसी के मुताबिक़ क़रीब 70 हज़ार लोग बेघर हो गए हैं.


7.3 की तीव्रता वाले इस भूकंप को इस साल आए बड़े भूकंपों में से एक माना जा रहा है. भूकंप का केंद्र इराक़ और ईरान का सीमावर्ती इलाक़ा है.  यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के मुताबिक़ भूकंप का केंद्र इराक़ के क़ुर्द बहुल शहर हलब्जा के दक्षिण-पश्चिम में 32 किलोमीटर दूर था.

 

इस भूकंप के झटके तुर्की, इसराइल और क़ुवैत में भी महसूस किए गए.


ईरान के आपदा सेवाओं के अध्यक्ष पीर हुसैन कूलीवंद ने सरकारी टीवी चैनल को बताया कि ज़्यादातर तबाही देश की सीमा से 15 किलोमीटर दूर सरपोल-ए-ज़हाब नाम के क़स्बे में हुई है.  उन्होंने बताया कि कस्बे के अस्पताल को भारी नुक़सान पहुंचा है जिसकी वजह से घायलों को मदद मिलने में समस्या आ रही है.


सरपोल-ए-ज़हाब एक पहाड़ी इलाक़ा है जिसमें ज़्यादातर घर मिट्टी के बने हैं और इतने बड़े भूकंप को नहीं झेल सकते.


ईरान की रेड क्रेसेंट संस्था के मुर्तज़ा सलीम के मुताबिक़ क़रीब आठ गांवों में नुक़सान की ख़बरें हैं. कुछ और गांवों में बिजली और टेलीफ़ोन सेवाओं पर भी असर पड़ा है.


पीर हुसैन कूलीवंद के मुताबिक़ लैंडस्लाइड के चलते बचाव दलों के काम में रुकावट आ रही है.  भूकंप प्रभावित इलाक़ों में कुछ सड़कें टूट गई हैं जिसकी वजह से बचाव टीमों को वहां पहुंचने में समस्या आ रही है.


भूकंप स्थानीय समय के हिसाब से रात के 09 बजकर 18 मिनट पर आया. भूकंप की गहराई 23.2 किलोमीटर बताई जा रही है

 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in