पहला पन्ना > राजनीति > पश्चिम बंगाल Print | Send to Friend | Share This 

माओवादियों का शहीदी दिवस, बंगाल में रेड अलर्ट

माओवादियों का शहीदी दिवस, बंगाल में रेड अलर्ट

कोलकाता. 18 जून 2010


माओवादियों द्वारा पश्चिम बंगाल के जंगल महल इलाक़े में शुक्रवार से शुरु ‘शहीदी दिवस’ को लेकर सरकार ने राज्य भर में रेड अलर्ट घोषित कर दिया है. मिदनापुर, पुरुलिया, बांकुड़ा और निकटवर्ती इलाके में पुलिस खास चौकसी बरत रही है. रेलवे ने भी पांच दिनों तक इस इलाके से रात में ट्रेन नहीं चलाने की घोषणा की है.

maoist martyre day


ज्ञात रहे कि पिछले बुधवार को पुलिस ने राज्य के मिदनापुर जिले के सलोबोनी गांव के पास तीन महिला नक्सली सहित आठ नक्सलियों को एक मुठभेड़ में मार गिराया था. इस मुठभेड़ के बाद माओवादियों ने राज्य के जंगलमहल इलाके में चार दिनों तक शहीदी दिवस मनाने की घोषणा की है.

माओवादियों की घोषणा के मद्देनज़र राज्य में पुलिस और अर्धसैनिक बलों को रेड अलर्ट पर रखा गया है. जंगल महल इलाके में पुलिस कैंपों पर माओवादियों के हमले की आशंका के चलते विशेष चौकसी बरती जा रही है.

माओवादियों ने शहीदी दिवस का आयोजन ऐसे समय में किया है, जब माओवादियों को मुख्यधारा में लाने के लिये पश्चिम बंगाल सरकार ने स्पेशल पैकेज की घोषणा की है. माओवादियों के लिए यह विशेष पुनर्वास स्कीम केंद्र प्रयोजित होगी, जिसे पश्चिम बंगाल सरकार लागू करायेगी.

बंगाल में शहीदी दिवस को ध्यान में रखते हुए पड़ोसी राज्यों छत्तीसगढ़, उड़ीसा और झारखंड में भी अतिरिक्त सुरक्षा बरती जा रही है.