पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राष्ट्र > अर्थ जगत Print | Send to Friend | Share This 

गैस, पेट्रोल, डीज़ल और केरोसिन के दाम बढ़े

गैस, पेट्रोल, डीज़ल और केरोसिन के दाम बढ़े

नई दिल्ली. 25 जून 2010


केंद्र सरकार ने पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोत्तरी की घोषणा की है. आज रात से रसोई गैस की कीमत में 35 रुपये, पेट्रोल पर तीन रुपये पचास पैसे और डीज़ल की कीमत में 2 रुपये की बढ़ोत्तरी हो जायेगी. केरोसीन की कीमत भी तीन रुपये बढ़ा दी गई है.  सरकार ने कहा है कि आने वाले दिनों में पेट्रोल की कीमतें अंतरराष्ट्रीय बाज़ार के हिसाब से ही निर्धारित होंगी.

सरकार के इस फ़ैसले की घोषणा करते हुए केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री मुरली देवड़ा ने कहा कि आने वाले दिनों में प्रयास रहेगा कि डीज़ल की क़ीमतें भी बाज़ार के हिसाब से तय हों. उन्होंने कहा कि अब तक सब्सिडी के ज़रिए दामों को कम रखा गया था लेकिन अब कैबिनेट ने पेट्रोलियम पर्दार्थों की कीमतों पर गठित किरीट पारेख समिति की सिफारिशों को स्वीकार करते हुए
इन पर्दार्थों की कीमतों को अंतरराष्ट्रीय बाज़ार के हिसाब से तय करने का फ़ैसला किया है.

केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी की अध्यक्षता में अधिकार प्राप्त मंत्रियों के समूह की बैठक के बाद पेट्रोलियम मंत्री मुरली देवड़ा की उपस्थिति में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस सचिव एस सुंदरेशन ने कहा कि कच्चे तेल के अपेक्षाकृत कम दाम को देखते हुए मंत्री समूह ने सही समय पर निर्णय लिया है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस समय कच्चे तेल के दाम 77 डालर प्रति बैरल के आसपास चल रहे हैं.

उन्होंने कहा सरकार के इस निर्णय से पेट्रोलियम पदार्थो पर दी जाने वाली भारी सब्सिडी का बोझ कम होगा.इसके अलावा तेल विपणन कंपनियों को पेट्रोलियम पदार्थो की उनकी लागत से कम दाम पर बिक्री से होने वाली कम वसूली से भी राहत मिलेगी. उन्होंने कहा कि सरकार अभी भी खाना पकाने की गैस और मिट्टी तेल पर भारी सब्सिडी देती रहेगी.

उधर केंद्र सरकार के इस फैसले को विपक्ष ने आड़े हाथों लिया है. प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा के प्रवक्ता प्रकाश जाड़वेकर ने इस मुद्दे पर कहा है कि केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डील के दाम बढ़ाकर आम जनता के साथ मजाक किया है और इस फैसले को जल्द से जल्द वापस ले लिया जाना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि अगर ये फैसला वापस नहीं लिया जाता है तो उनकी पार्टी राष्ट्रव्यापी आंदोलन करेगी. इसके अलावा लेफ्ट पार्टियों और संप्रग सरकार के प्रमुख घटक दल तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष एवं रेल मंत्नी ममता बनर्जी ने भी इस फैसले पर अपना रोष जताया है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in