पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राजनीति > दिल्ली Print | Send to Friend | Share This 

भाजपा कराये गड़करी के दिमाग का इलाज- कांग्रेस

भाजपा कराये गड़करी के दिमाग का इलाज- कांग्रेस

नई दिल्ली. 9 जुलाई 2010


संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा दिए जाने के बाद भी उसकी फांसी टालने के लिए अफजल गुरु को कांग्रेस का दामाद बताने वाले बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी के बयान पर आपत्ति करते हुए कांग्रेस ने कहा है कि भाजपा अपने अध्यक्ष का इलाज कराये. पार्टी ने कहा कि गडकरी अपना दिमागी संतुलन खो चुके हैं और एक राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष बने रहने के लायक नहीं हैं.

कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा कि “यह बयान अश्लील और अभद्र है. यह स्पष्ट है कि बीजेपी अध्यक्ष अपना दिमागी संतुलन खो चुके हैं. बीजेपी को उनपर दया दिखाते हुए उन्हें ऐसी जगह भर्ती करवाना चाहिए जहां मानसिक बीमारी का इलाज होता है. उस व्यक्ति को मदद की जरूरत है.”

कांग्रेस के एक और प्रवक्ता शकील अहमद ने गड़करी के बयान की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि यह बहुत अपमानजनक बयान है. देश यह तय करेगा कि क्या ऐसी भाषा राजनीति में इस्तेमाल होगी. श्री अहमद ने कहा कि एक राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष की तरफ से दिया गया ऐसा बयान दुर्भाग्यपूर्ण है. इससे फिर एक बार साबित हो गया है कि गडकरी में एक राष्ट्रीय पार्टी का अध्यक्ष बनने लायक गंभीरता नहीं है.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Sainny Ashesh Leh

 
 इसका मतलब यह हुआ की अगर बीजेपी अध्यक्ष के परिवार की लड़की का पति हत्यारा हो तो अध्यक्ष उसे अपराधी नहीं मानेगा.

साबित हो गया कि ऐसी मानसिकता ही हत्यारी होती है. अपराध की बुनियाद यहीं से शुरू होती है की आप खुद बे-ईमान और अश्लील ज़हनियत के तरफदार हैं, मगर आरोप दूसरे पर लगते हैं. ऐसी ज़हनियत से देश कहाँ जाएगा? बात-बात पर खुलने वाला यह खून कहाँ से आया है? इसे मौका मिलने की देर है और ये ज़हनियत सारी बर्बरता को पीछे छोड़ देगी.
 
   
 

sunder lohia (lohiasunder2 @gmail.com) Mandi ( H.P}.

 
 इतिहास और संस्कृति को भ्रष्ट करने के बाद अब यह पार्टी राजनीति को भी कलंकित करने पर तुली हुई है. यह भारतीय राजनीति का नासूर है जिसे जल्द से जल्द कट फेंकना ज़रूरी हो गया है. 
   
 

Rakesh tripathi varanasi

 
 अगर गड्करी ने ऐसा कहा तो कुछ भी गलत नही कहा है क्योंकी अगर कांग्रेस अफजल गुरु के मामले में निष्पक्ष है तो उसे फाँसी पर लटका कर अपने देश के कानून का पालन करना चाहिये ।  
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in