पहला पन्ना > राजनीति > गोरखालैंड Print | Send to Friend 

गोरखालैंड की मांग को लेकर दार्जिलिंग बंद

गोरखालैंड की मांग को लेकर दार्जिलिंग बंद

 

कलिंगपोंग. 16 जून 2008

अलग गोरखालैंड की मांग को लेकर गोरखा जनमुक्तिमोर्चा ने आज से अनिश्चितकालीन दार्जिलिंग बंद का आह्वान किया है. इधर केंद्र सरकार ने एक बार फिर पृथक गोरखालैंड की संभावना से इंकार करते हुए कहा है कि गोरखा जनमुक्ति मोर्चा बातचीत के लिए आगे आए.

 

गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के नेता विमल गुरुंग ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि केंद्र और राज्य सरकार का रवैय्या असहयोगात्मक है. जिस तरह से गोरखालैंड के मुद्दे पर सरकार वार्ता चाहती है, वह संभव नहीं है. दार्जिलिंग के अलग-अलग हिस्सों में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं और यह आंदोलन गोरखालैंड बनने तक जारी रहेगा.

 

गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के बंद के कारण दार्जिलिंग के इलाके में तनाव का वातावरण बना हुआ है. पिछले हफ्ते भी इसी तरह के बंद और झड़पों के कारण इस इलाके में हंगामा हुआ था और हजारों की संख्या में पर्यटक फंस गए थे. बाद में राज्य सरकार को अर्धसैनिक बलों की टुकड़ियां तैनात करनी पड़ी थीं.

 

इधर विदेश मंत्री प्रणव मुखर्जी ने फिर से दुहराया है कि पृथक गोरखालैंड की मांग पूरा करना संभव नहीं है और अगर गोरखा जनमुक्ति मोर्चा चाहे तो इस इलाके को और अधिक अधिकार दिए जाने के मुद्दे पर सरकार बातचीत करने को तैयार है.