पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राजनीति > पश्चिम बंगाल Print | Send to Friend | Share This 

6 नक्सली मारे गये

6 नक्सली मारे गये

कोलकाता. 26 जुलाई 2010


पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में अर्धसैनिक बलों के साथ एक मुठभेड़ में एक महिला माओवादी सहित छह नक्सलियों की मौत हो गयी. इस मुठभेड़ में सीआरपीएफ का एक जवान भी शहीद हो गया.

maoist


सीआरपीएफ के सूत्रों ने बताया कि एक विशेष खुफिया सूचना के आधार पर सीआरपीएफ और विशेष नक्सल विरोधी दल एसएएफ ने कल रात गोलाटोरे पुलिस थाने के अन्तर्गत घने जंगलों में अभियान चलाया.

उन्होंने बताया कि आज तड़के समाप्त हुई मुठभेड़ में घटनास्थल से छह शव बरामद हुए . मुठभेड़ स्थल से एसएलआर और इंसास राइफल सहित 12 हथियार भी मिले. उन्होंने बताया कि शहीद कांस्टेबल की पहचान आशीष तिवारी के रूप में हुई है.

प्रारंभिक सूचना के अनुसार मारे गये नक्सलियों में से एक को सिद्धू सोरेन माना जा रहा है जो राज्य में शीर्ष नक्सली कमांडर था.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

shwetabh (shwetabhkgmc@gmail.com) lko

 
 govt. of india has never been a govt. of Indians.it needs to be overthrown. 
   
 

Sainny Ashesh (sainny.ashesh@gmail.com) Laddakh

 
 अपने ही देश में एक के मारे जाने और दूसरे के शहीद होने का मतलब है एक का बेरोजगार बना दिया जाना और दुसरे को बा-रोज़गार कर देना. अक्ल और शक्ल में ख़ास फर्क नहीं होता, बाहरी दबाव का होता है. यह मारे जाना और यह शहीद होना जुड़वां भाइयों की मौत है. सियासत कितनी आसानी से उन्हें एक-दुसरे के हाथों मरवा कर अपने आसन ऊंचे कर लेती है! क्या हमें भगत सिंह जैसे असली शहीदों के लिए कोई और नाम लाना होगा? 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in