पहला पन्ना > विचार > समाज Print | Send to Friend | Share This 

मंगेतर से फोन पर बात अवैध- देवबंद

मंगेतर से फोन पर बात अवैध- देवबंद

नई दिल्ली. 5 अगस्त 2010


दारुल उलूम देवबंद का कहना है कि इस्लाम में सगाई के बाद बिना किसी कारण के मंगेतर से फोन पर बात करना अवैध माना गया है. अपने नए संदेश में देवबंद के उलेमाओं ने कहा है कि सगाई के बाद मंगेतर से बिना किसी कारण फोन पर बात करना इस्लाम में प्रतिबंधित किया गया है. इस्लाम किसी को इसकी इजाजत नहीं देता है.

देवबंद की वेबसाइट पर सामाजिक मामलों के निकाह संबंधी सवाल क्रमांक 24557 के जवाब में इस बारे में फतवा 1262/1262/M=1431 दिया गया है. देवबंद से पूछा गया था कि सगाई होने के बाद परिवार की मर्जी से अपने मंगेतर से फोन पर बात करने की इजाजत इस्लाम देता है या नहीं.

इसके जवाब में देवबंद की ओर से कहा गया है कि पहले मंगेतर किसी अजनबी की तरह होता या होती है. उससे बिना किसी कारण फोन पर बात करना वैध नहीं है. फतवे के मुताबिक इस संबंध में परिवारजन अनुमति देने के अधिकारी नहीं हैं क्योंकि इस्लाम ने पहले ही इस पर प्रतिबंध लगा रखा है.