पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राजनीति > उड़ीसा Print | Send to Friend | Share This 

ओडीशा में वेदांता को दी गई अनुमति रद्द

ओडीशा में वेदांता को दी गई अनुमति रद्द

नई दिल्ली. 24 अगस्त 2010


केंद्र सरकार ने ब्रिटिश कंपनी वेदांता रिसोर्सेस को ओडीशा के नियामगिरि में बॉक्साइट खनन के लिए दी गई पर्यावरणीय अनुमति को रद्द कर दिया है.

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने कुल 1.7 अरब डॉलर की इस खनन परियोजना के लिये दी गई पर्यावरणीय मंजूरी को रद्द करते हुये कहा कि इस परियोजना के लिए पर्यावरणीय संरक्षण क़ानून, वन सुरक्षा अधिनियम और वन अधिकार क़ानून का गंभीर उल्लंघन हुआ है.


ज्ञात रहे कि केंद्र सरकार के आदेश पर पिछले दिनों इस खनन से होने वाले दुष्प्रभाव को लेकर जांच की गई थी. केंद्र सरकार द्वारा गठित एनसी सक्सेना कमेटी की रिपोर्ट में कहा गया था कि वेदांता के खदान के आने से लगभग सत्तर लाख वर्ग किलोमीटर में फैले जंगल बर्बाद हो जाएंगे और डोंगरिया कोंध जनजाति का अस्तित्व ख़तरे में पड़ जाएगा.

कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में साफ कहा था कि किसी निजी कंपनी को लाभ पहुंचाने के लिए प्रस्तावित खनन स्थल पर दो आदिम जनजाति समूहों-कुटिया और डोंगरिया कोंध- के अधिकारों को छीन कर प्रस्तावित इलाके में खनन की अनुमति देने से जनजातियों का कानून से भरोसा टूट जाएगा.

इस बदनाम ब्रिटिश कंपनी वेदांता को लेकर कमेटी ने राय दी थी कि चूंकि वेदांता ने बार-बार कानून का उल्लंघन किया है, लिहाजा इसे प्रस्तावित खनन इलाके में जनजातियों के अधिकारों की कीमत पर खनन की फिर अनुमति देने से देश की सुरक्षा और बेहतरी के लिए गंभीर खतरा पैदा हो सकता है.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

bhagat singh raipur

 
 जयराम रमेश को बधाई तो देनी ही पड़ेगी. पिछले दिनों रायगढ़ में जिंदल से लेकर सरगुजा तक में उन्होंने ऐसे निर्णय लिए हैं. पता नहीं ये सब कितने दिन टिकता हैं. निर्णय की बात नहीं जयराम रमेश की बात कह रहा हूँ. आज सावधिक लोकप्रिय मंत्री के रूप में गिने जाने लगे. खतरा बहुत हैं आगे देखते हैं क्या होता है. 
   
 

Sainny Ashesh (sainny.ashesh@gmail.com) Western Himalayas

 
 इब्तिदा-ए-इश्क है रोता है क्या
आगे आगे देखिये होता है क्या

बहुत खून पी चुकी सरकारें और उनके दुलारे !
 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in