पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राजनीति > नेपाल Print | Send to Friend | Share This 

प्रचंड की हार का ठीकरा भारत पर

प्रचंड की हार का ठीकरा भारत पर

नई दिल्ली.6 सितंबर 2010


नेपाल का प्रधानमंत्री बनने से वंचित रह गये माओवादी नेता पुष्प कमल दहाल प्रचंड की पार्टी ने आरोप लगाया है कि भारत की गुप्तचर संस्था रॉ के कारण वे प्रधानमंत्री नहीं बन पाये.

पिछले कुछ महीनों में छठवीं बार नेपाल में प्रधानमंत्री पद के लिये चुनाव हुआ तो माओवादी नेता प्रचंड को एक बार फिर हार का सामना करना पड़ा. इस बार प्रचंड ने अपनी पार्टी और दूसरे माओवादी संगठनों के बीच तालमेल के अभाव के बजाय रॉ के सर पर हार का ठीकरा फोड़ा है.

ज्ञात रहे कि चुनाव से ऐन पहले एक ऑडियो टेप में माओवादी सांसद कृष्ण बहादुर म्हारा के एक व्यक्ति के साथ टेलीफोन पर हुई बातचीत में यह रहस्योद्घाटन हुआ था कि चीन की ओर से प्रचंड के पक्ष में सांसदों की खरीद-फरोख्त के लिये 50 करोड़ रुपये की सहायता की गई है. टेप के अनुसार तराई पार्टियों के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों की खरीद के लिये एक चीनी दोस्त द्वारा म्हारा को पेशकश की गई थी.

हार का सामना करने के बाद रविवार को माओवादी पार्टी के मुखपत्र जनसंदेश में आरोप लगाया गया है कि माओवादी सांसदों में फूट डालने की नियत से इस तरह का झूठा टेप वितरित करवाया गया. प्रथम पृष्ठ में प्रकाशित इस आलेख में आरोप लगाया गया है कि रॉ ने न केवल इस टेप को मीडिया में बंटवाया, बल्की इसके प्रसारण के लिये मीडिया घरानों पर दबाव बनाये या उन्हें प्रलोभन दिया.

आलेख के अनुसार सांसदों की खरीदी के लिये रिश्वत देने के प्रयास का आरोप अविश्वसनीय है क्योंकि उनकी पार्टी की नीति सांसदों की खरीद-फरोख्त की नहीं है. लेख के अनुसार नेपाल में अटकलें हैं कि टेप के पीछे भारत का हाथ है और चीन को जानबूझकर विवाद में घसीटने के षड्यंत्र की बू आती है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in