पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > मुद्दा > बिहार Print | Send to Friend | Share This 

नक्सलियों ने तीन बंधक पुलिसकर्मियों को छोड़ा

नक्सलियों ने तीन बंधक पुलिसकर्मियों को छोड़ा

पटना.6 सितंबर 2010


नक्सलियों ने बंधक बनाए गए तीन पुलिसकर्मियों को सोमवार की छोड़ दिया है. तीनों पुलिसकर्मी लखीसराय शहर के पुलिस थाने पहुंच चुके हैं. इन पुलिसकर्मियों का लखीसराय में प्राथमिक इलाज के बाद पटना भेजे जाने की खबर है. बिहार पुलिस के प्रवक्ता पी के ठाकुर ने इसकी पुष्टि की है. बंधकों में से एक की पहले ही हत्या कर दी गई थी. खबर के अनुसार सरकार और नक्सलियों के बीच हुई बातचीत के बाद नक्सलियों ने बंधक पुलिसकर्मियों को छोड़ा है.

ज्ञात रहे कि 29 अगस्त को नक्सलियों ने 4 पुलिस जवानों का अपहरण कर लिया था. नक्सलियों की मांग थी कि इनकी रिहाई के लिये नक्सलियों के जेल में बंद 8 जवानों को रिहा किया जाये. नक्सलियों ने जिन 8 नक्सलियों की रिहाई की बात की थी, उनमें से एक बांका जेल में बंद जय पासवान पर डेढ़ दर्जन से ज्यादा संगीन मामले दर्ज हैं. इसके अलावा विजय चौधरी, प्रमोद वर्नवाल, रमेश टिर्की, रामविलास पासी, अर्जुन कोड़ा, रत्तू कोड़ा और विश्वनाथ बैठा की रिहाई नक्सलियों ने चाही थी. बार-बार सरकार को चेतावनी देने के बाद नक्सलियों ने एक आदिवासी पुलिसकर्मी लुकस टेटे को मार डाला था.

पिछले सप्ताह भर से बंधक बनाये गये एहसान खान, रूपेश कुमार और अभय यादव को सोमवार की सुबह करीब साढ़े छह बजे नक्सलियों ने छोड़ा गया. हालांकि राज्य पुलिस ने दावा किया है कि पुलिस के बढ़ते दबाव के बाद नक्सलियों ने यह कदम उठाया है.

पुलिस के अनुसार बीएमपी हवलदार लुकास टेटे की लाश मिलने के बाद इलाके में तलाशी अभियान तेज कर दिया गया था और राज्य के बांका, कैमूर, मुंगेर, जमुई और लखीसराय के जंगलों में पुलिस के जवान कॉम्बिंग ऑपरेशन कर रहे थे. इसी दबाव के कारण उन्हें रिहा किया गया.

शनिवार को हुई सर्वदलीय बैठक के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नक्सलियों से अपील की थी कि इस मसले पर बातचीत के लिए वे खुल कर आगे आएं। उन्होंने वादा किया कि अगर नक्सली खुलकर बातचीत के लिए सामने आते हैं तो सरकार उनकी सुरक्षा की गारंटी लेगी. मुख्यमंत्री ने पेशकश की थी कि बातचीत के लिए आगे आने वाले नक्सली नेताओं के खिलाफ किसी तरह की पुलिस कार्रवाई नहीं की जाएगी. लेकिन नक्सलियों ने उनकी इस मांग को ठुकरा दिया था.

बाद में नक्सलियों के प्रवक्ता होने का दावा करने वाले अविनाश ने कहा था कि हम बिना शर्त तीनों अपह्रत पुलिसकर्मियों को रविवार को रिहा कर देंगे. हालांकि इनकी रिहाई सोमवार को संभव हो सकी.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in