पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राज्य > दिल्ली Print | Send to Friend 

कैप्टन ने लगाया यौन शोषण का आरोप

कैप्टन ने लगाया यौन शोषण का आरोप


नई दिल्ली. 16 जुलाई 2008
सेना में यौन शोषण के किस्से आम होते जा रहे हैं. ताजा मामला कैप्टन पूनम कौर का है.

 

कैप्टन पूनम कौर ने सेना के तीन अधिकारियों पर यौन व मानसिक शोषण करने का आरोप लगा कर सनसनी फैला दी है. दूसरी ओर सेना ने पूनम पर मानसिक रुप से कमजोर हेने का आरोप लगाया है.


पूनम का आरोप है कि अप्रैल और मई में वह पठानकोट में ड्यूटी पर थीं, तब उन्हें एक पुरुष अफसर के साथ फिक्सअप करने का प्रयास किया गया था. पूनम के अनुसार कमांडिंग अफसर कर्नल, सेकंड इन कमांड लेफ्टिनेंट कर्नल और एक मेजर ने भी इससे पहले उनके साथ अश्लील हरकत की थी और यौन शोषण का प्रयास किया था. इसके बाद जब उन्होंने इस तरह की हरकतों का विरोध किया तो उन्हें मानसिक रुप से प्रताड़ित किया गया.


पंचकूला के कालका में तैनात पूनम का जब पठानकोट तबादला किया गया तो उसे पुरानी बातें याद आ गई और उसे लगा कि एक बार फिर वह इस कुचक्र में फंस सकती है. उन्होंने इस मुद्दे पर सेना के अधिकारियों के सामने अपनी बात रखी लेकिन सेना के अधिकारियों ने उसकी नहीं सुनी.


दूसरी ओर सेना के अधिकारियों ने आरोप लगाया है कि पूनम मानसिक रुप से कमज़ोर हैं और उनके खिलाफ एक बार जांच भी की गई है.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

rajiv,rajesh(vijar.ch@rediffmail.com)

 
 yah indan army k charitra ko bata raha hai ki puruspradhan mansikta se we v grasit hai.mahila ho yapurus har yek suchche insan ka ferj hai ki milakar isake kilaf kharen hon., 
   
[an error occurred while processing this directive]
 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in