पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >मुद्दा >दिल्ली Print | Share This  

सबरीमाला में मृतकों की संख्या 106 हुई

सबरीमाला में मृतकों की संख्या 106 हुई

नई दिल्ली. 15 जनवरी 2011


केरल के इडक्की ज़िले के पुल्लुमेडू में मची भगदड़ में मरने वालों की संख्या 106 तक पहुंच गई है. इस घटना पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कई वरिष्ठ नेताओं ने गहरा शोक जताया है. प्रधानमंत्री ने मारे गए लोगों के परिवारों को एक लाख रूपयों का मुआवज़ा देने का एलान किया है और घायलों को 50,000 रूपए दिए जाएंगे. शोक जताने वालों में राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल और कांग्रेस की सोनिया गांधी भी शामिल हैं.

शुक्रवार को हुई इस घटना में अब तक 106 लोगों के मारे जाने की खबर है. राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल का दस्ता बचाव में जुटा हुआ है. हादसे के बाद प्रभावित परिवारों को जानकारी देने के उद्देश्य से एक हेल्पलाइन बनाया गया है जिसका नंबर 04869222049 है.

केरल के शिक्षा मंत्री एमए बेबी के अनुसार श्रद्धालुओं से भरी जीप शुक्रवार शाम सवा आठ बजे नियंत्रण खोने के बाद भीड़ में घुस गई जिसके बाद लोग इधर-उधर भागने लगे. इसी अफ़रा-तफ़री में कई लोगों की जान गई. माना जा रहा है कि अधिकांश लोगों की मौत भगदड़ के कारण हुई.

बेबी ने कहा कि दुर्घटना के शिकार अधिकतर लोग तमिलनाडु एवं अन्य राज्यों के थे जो मंदिर में भगवान का दर्शन करने के बाद पोंगल त्योहार मनाने के लिए घर लौट रहे थे.उन्होंने कहा कि मरने वालों में कुछ मलयाली भी हैं. मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री वी एस अच्युतानंदन ने इडुक्की के जिला प्रशासन को घायलों को त्वरित राहत पहुंचाने का निर्देश दिया है.

एक अनुमान के मुताबिक करीब डेढ़ लाख श्रद्धालु जंगल के इस रास्ते से अपने घरों को लौटे. पहाड़ी इलाका और जंगलों के कारण दुर्घटनास्थल पर बचाव अभियान प्रभावित हुआ है.

‘मकर संक्रमा पूजा’ के लिए हजारों श्रद्धालु सबरीमाला मंदिर में आते हैं तो भगवान अय्यपा मंदिर की तीर्थयात्रा का अंतिम चरण होता है. वे ‘मकर ज्योति’ के बाद लौट रहे थे, जिसे श्रद्धालु दैवीय ज्योति मानते हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in