पहला पन्ना >राजनीति >आतंकवाद Print | Share This  

अयोध्या विवाद को सुलझाने की नई कोशिश

अयोध्या विवाद को सुलझाने की नई कोशिश

 

अयोध्या. 30 अप्रैल 2011

अयोध्या विवाद का कोर्ट के बाहर समाधान तलाशने में लगी पार्टियों ने एक नया फॉर्म्युला तैयार किया है. इसमें 70 एकड़ की इस विवादित जमीन पर मंदिर और मस्जिद बनाने की बात है. लेकिन दोनों इमारतों के बीच में सौ फीट की दीवार रहेगी. अयोध्या विवाद पर 30 सितंबर के हाई कोर्ट के फैसले के बाद दूसरे दौर की बातचीत की शुरुआत करने वाले महंत ज्ञान दास और हाशिम अंसारी इसके पीछे हैं. ज्ञान दास हनुमान गढ़ी मंदिर के मुख्य पुजारी हैं. वह अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष भी हैं. जबकि अंसारी राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के सबसे बुजुर्ग पक्षकार हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार महंत ज्ञान दास ने बताया कि अखाड़ा परिषद अहमदाबाद में 15 मई को बैठक कर रहा है. इसमें मामले के मुख्य पक्षकार निर्मोही अखाड़ा समेत 18 अखाड़े भाग ले रहे हैं. उन्होंने बताया कि सभी इस फॉर्म्युले पर करीब-करीब सहमत हैं.

मंहत ज्ञान दास ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में बताया कि इस पर सभी प्रमुख हिंदू धर्मगुरु सहमत हैं. उन्होंने कहा कि बातचीत में विश्व हिंदू परिषद और भारतीय जनता पार्टी शामिल नहीं है.

उन्होंने कहा कि दोनों राम मंदिर नहीं बनाना चाहते, बस सांप्रदायिक तनाव बरकरार रख वोट की राजनीति करना चाहते हैं.