पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

मुस्लिम धर्मगुरुओं को पायलट ने उतारा

मुस्लिम धर्मगुरुओं को पायलट ने उतारा

वाशिंगटन. 7 मई 2011


अमरीका में एक पायलट ने विमान रवाना होने के बाद उसे वापस लौटाया और उसमें सवार दो मुस्लिम धार्मिक नेताओं को यह कह कर एयरपोर्ट पर उतार दिया कि वह उन्हें लेकर विमान नहीं उड़ा सकता क्योंकि इन धार्मिक नेताओं के कारण विमान के दूसरे यात्री ‘असहज’ हो रहे हैं. यह वाकया मेम्फिस इंटरनेशनल एयरपोर्ट की है. इन दोनों मुसाफिरों को डेल्टा कनेक्शेन की फ्लाइट से नॉर्थ कैरोलाइना के शारलोट जाना था.

मेम्फिस यूनिवर्सिटी से संबद्ध मसूद उर रहमान का आरोप है कि वे और उनके साथ बैठे एक इमाम को नस्लभेद के कारण विमान से उतारा गया है. रहमान के अनुसार विमान में सवार होने के वक्तम वे परंपरागत भारतीय पोशाक में थे, जबकि उनके साथी मोहम्मरद जगुलौल अरबी वेशभूषा में थे.

मसूद उर रहमान का कहना है कि शुक्रवार को सुबह 8:40 बजे विमान को रवाना होना था, इसके लिए उन्हेंर सुरक्षा जांच के बाद विमान में सवार होने के लिए हरी झंडी भी मिल गई. वे विमान में अपनी निर्धारित सीट पर बैठ गये और विमान ने उड़ान भी भर ली. लेकिन थोड़ी ही देर बाद पायलट ने विमान को वापस एयरपोर्ट लौटाने की घोषणा की. इसके बाद मसूद उर रहमान और उनके साथी को विमान से यह कह कर उतरने पर मजबूर कर दिया गया कि उनके कारण दूसरे यात्रियों को कथित रुप से असुविधा हो रही थी.

बाद में डेल्टार एयर लाइंस के अधिकारियों ने कई बार पायलट से बात की और दोनों यात्रियों को ले जाने का अनुरोध किया लेकिन पायलट अड़ गया.

इस मामले में यात्रियों से माफी मांगने के बाद अटलांटिक साउथ ईस्टन एयरलाइंस के प्रवक्ताऔ जेरेक बीम ने कहा, 'हम सुरक्षा के मामले में किसी तरह की कोताही नहीं बरतते. मामले की जांच की जा रही है.'