पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

रामदेव को माओवादियों का समर्थन

रामदेव को माओवादियों का समर्थन

 

कोलकाता. 4 जून 2011

दिल्ली में अनशन कर रहे बाबा रामदेव को माओवादियों की तरफ़ से भी समर्थन मिला है. माओवादियों की पश्चिम बंगाल राज्य समिति के सदस्य आकाश ने एक न्यूज एजेंसी को फ़ोन पर बताया ‘‘हम देश के लोगों से, भ्रष्टाचार के खिलाफ़ और विदेशों में जमा काले धन को वापस लाने के लिये कल से शुरू हो रहे बाबा रामदेव के आंदोलन में शामिल होने की अपील करते है.’’

माओवादी नेता ने कहा "हम बाबा रामदेव को अपना पूर्ण समर्थन देते हैं. न केवल रामदेव अथवा अन्ना हजारे वरन देश के किसी भी हिस्से में, किसी भी तरीके से और भ्रष्टाचार के खिलाफ़ किसी के भी आंदोलन में माओवादियों की सक्रिय भूमिका होगी.’’

माओवादी नेता ने भ्रष्टाचार में डूबी केंद्र की यूपीए सरकार और राजनीतिक पार्टियों के बिछाये गये जाल में लोगों को नहीं फ़ंसने के प्रति आगाह भी किया, क्योंकि इससे ‘‘पवित्र उद्देश्य’’ को पूरा करने में बाधा आती है.

ज्ञात रहे कि अन्ना हजारे के अनशन पर भी माओवादियों ने अपना रुख स्पष्ट करते हुये कहा था कि “भ्रष्टाचार विरोधी संघर्ष का हमारी पार्टी तहेदिल से समर्थन करती है. हमारी पार्टी का यह विश्वास है कि जनता के सांझे, संगठित और जुझारू संघर्षों के जरिए ही भ्रष्टाचार का अंत करना संभव हो सकेगा. हमारी पार्टी देश की जनता से आग्रह करती है कि वह सरकार द्वारा घोषित सतही कानूनों और कानून तैयार करने के लिए कमेटियों के गठन की घोषणाओं से संतुष्ट होकर अपने संघर्ष को समाप्त न करे, बल्कि संघर्ष की राह पर दृढ़ संकल्प के साथ आगे बढ़े.”

हालांकि माओवादियों ने अन्ना के आंदोलन की आलोचना भी की थी. अन्ना हजारे के अनशन और उसके बाद जन लोकपाल के लिये कमेटी बनाये जाने के मुद्दे पर माओवादियों ने अपना रुख स्पष्ट करते हुये कहा था कि लोकपाल विधेयक के लिए सरकार द्वारा सांझी कमेटी की घोषणा की जाने के बाद अन्ना हजारे ने तो अपनी अनशन तोड़ दी, लेकिन जनता को इससे इंसाफ नहीं मिला, जो देश भर में उनकी हड़ताल के साथ खड़ी हुई थी.

माओवादियों ने कहा था कि सरकार ने लोकपाल की मांग अन्ना की भूख हड़ताल से डरकर पूरी नहीं की, बल्कि उनके समर्थन में उभर कर आए जनता के आक्रोश को ठण्डा करने के लिए की. शासक वर्ग को पता है कि इस तरह के कानूनों से मौजूदा व्यवस्था को कोई नुकसान नहीं होने वाला है, इसीलिए उन्होंने बेखौफ होकर लोकपाल विधेयक के लिए कमेटी की घोषणा की.