पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >तीन कवितायें Print | Share This  

इला कुमार की तीन कविताएं

साहित्य

 

इला कुमार की तीन कविताएं


ऊपर उठी शाखाओं के पीछे

इला कुमार


ऊपर उठी शाखाओं के पीछे है
शाम का आसमान
लम्बी पूंछ वाली चिड़िया एक एक शाख
नीचे उतरती है
उसकी भंगिमा में है थोड़ी हिचकिचाहट
थोड़ा संकोच

वह धीमें से झुककर पत्तों के बीच
थोड़ा रस पीने की चेष्टा करती है
उसके पंखों की छूअन में छिपी है कोमलता
खूब सारी कोमलता

इच्छा होती है कि आए वह यहाँ
कार की खिड़की के अन्दर
आकर बैठ जाए यहीं कहीं

छू लेने दे अपनी कोमल हिचकिची भंगिमा
मन की आकांक्षा आकाश की सतह पर
स्वयं को अंकित करने बढ़ चलती है.

एक पेड़

एक पेड़
गैरेज के पार्श्व में बड़ा होता है
महलनुमा गृह के अहाते में

घर की माँ
उसे काजू-वृक्ष समझकर खरीद लाई थी
दूर देश के मेले से

हर वर्ष बसंत-पतझड़ के दिनों को गिनता हुआ
साल-दर-साल
बाल्टी-बाल्टी पानी सोखता हुआ

वह तथाकथित काजू का वृक्ष
बढ़ता जाता है
पत्तियों का मुकुट संभाल, दरख्ती पत्तों की बाहें फैलाए

डालियों से डाल
डाल से डालियों को बार-बार पसारता हुआ
सालों-साल गुजरने के बीच

कई बार घर के मालिकनुमा बेटे की नजरों में
वह पेड़ खुभ जाता है
घूरती निगाहों से वृक्ष को चेतावनी-
“इस साल न फले
तो कटवा दिए जाओगे!”

आह!

धमकियों के बीच फिर भी वह पेड़ बढ़ता है
सालों के बाद बसंत में
घर की माँ आशान्वित नजरों से
उसकी कोख पर गहरी नजर डालती है

आखिरकार
एक सुंदर सलोने समय के बीच
पेड़ की शाखों पर, डालियों पर
नवे अंकुर झूम आए
वृक्ष ने स्वयं को रच डाला
नन्हीं फलियों को काजू जैसी मुरकनी झोपी में सजा

वह बादाम के स्वादवाली फलियों के संग
जग के सामने प्रस्तुत हुआ

वे फल
फल तो थे
लेकिन वे फल काजू न थे

घर की नन्हीं बिटिया को
अचरज है
दुःख से भरकर वह सोचती है

फला-फूला हुआ
वह फलदार दरख्त
आखिर क्यों कटवा दिया गया.
आगे पढ़ें

Pages:
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

sanjeev buxy [buxysanjeev@gmail.com] raipur - 2013-03-19 10:57:26

 
  काजू के पेड वाली कविता एक अच्‍छी कविता है इसमें एक पकी उम्र और एक कच्‍ची उम्र की सोच में फर्क को सामने लाकर आपने जैसे रखा वह अच्‍छा लगा  
   
 

neerja hemendra [neerjahemendra@gmail.com] lucknow - 2013-03-06 09:31:45

 
  very good. very intelletual. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in