पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

सूचकांक से कहीं ज्यादा बड़ी है भुखमरी

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अरविंद कुमार Print | Share This  

चमत्कार है बृहत् समांतर कोश का आविर्भाव

ख़बर खास

 

चमत्कार है बृहत् समांतर कोश का आविर्भाव

अरविंद कुमार


भारतीय प्रकाशन जगत में एक चमत्कारी घटना थी स्वाधीनता के स्वर्ण जयंती वर्ष संबंधी समारोहों के अंतर्गत नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा समांतर कोश का सफल प्रकाशन. अरविंद कुमार के समांतर कोशने आधुनिक भारत को पहला संपूर्ण विश्वस्तरीय थिसारस मिला था. इसे बनाने में उन्होँ ने अपने जीवन के पूरे बीस साल होम दिए थे.

1800 पेजों वाले उस कोश का 5,000 (पाँच हज़ार) प्रतियों का पहला संस्करण हाथोंहाथ बिक गया. छह महीने बीतते न बीतते इस की पुनरावृत्ति की 10,000 (दस हज़ार) प्रतियाँ छापी गईं.अब तक उस की छह पुनरावृत्तियाँ हो चुकी हैं.

उस के लिए अरविंद कुमार को अनेक साहित्यिक पुरस्कार और सम्मान प्रदान किए गए: महाराष्ट्र हिंदी अकादेमी कामहाराष्ट्र भारती अखिल भारतीय हिंदी सेवा पुरस्कार, उत्तर प्रदेश हिंदी साहित्य सम्मेलन काडाक्टर हरदेव बाहरी सम्मान, केंद्रीय हिंदी संस्थान कासुब्रह्मन्य भारती पुरस्कार, और 2011 में हिंदी अकादेमी (दिल्ली) कासर्वोच्च शलाका सम्मान.

बृहत् समांतर कोश के आगमन के साथ अब हुआ है वैसा ही एक और चमत्कार.

आज विश्व भर में फैला हिंदी समाज और संसार में दूसरे नंबर की भाषा हिंदी तेज़ी से बदल और बढ़ रहे हैं. नित नई तकनीकों के प्रादुर्भाव से नई शब्दावली आ रही है. नए वैश्विक सांस्कृतिक और भौगोलिक संदर्भ हम से जुड़ रहे हैं. भारत में रहने वाले हिंदी साहित्यकारों और समाचारपत्रों का ध्यान नए विषयों की ओर जा रहा है, तो विदेशों में बसे भारतवंशी नए अनुभवों पर पर लिख रहे हैं. बदलते और आगे बढ़ते हिंदी वालों को चाहिए था एक भारत-केंद्रित अंतरराष्ट्रीय थिसारस जो यह सब आत्मसात कर सके.

इस के लिए समांतर कोश के डाटा का गहन पुनरीक्षण किया गया. कुछ आर्थी कोटियोँ मेँ पर्यायोँ की अत्यधिक भरमार थी, जैसे ‘शिव’ के लिए समांतर कोशमेँ 700 पर्यायथे. वे कम किए गए. (कम करने का मतलब है कि अनेक शब्दोँ को प्रकाशित होने वाली सूची मेँ से निकाल दिया गया. न कि उन्हेँ डाटा मेँ से निकाल दिया गया. इस समय हमारे डाटा मेँ शिव के कुल पर्यायोँ की संख्या 2,519 है.) डाटा मेँ कई शीर्षक बहुत छोटे थे, उन्हेँ अन्य शीर्षकोँ मेँ सम्मिलित किया गया. अब शीर्षकोँ की कुल संख्या 1100 से घट कर 988 रह गई.

शीर्षक तो कम किए, लेकिन कई नई आर्थी कोटियाँ सम्मिलित की गईं. हमारी अपनी सांस्कृतिक और सामाजिक मान्यताओँ को अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक संदर्भों मेँ दिखाने के लिए कई नए उपशीर्षक बनाए गए. इस प्रकार समांतर कोश के 23,759 से उपशीर्षकोँ से बढ़ कर अब बृहत् समांतर कोश मेँ 25,562 उपशीर्षक हैँ.

पहले अभिव्यक्तियोँ की संख्या कुल 1,60,850 थी. अब वे 2,90,477 हैँ. एकदम 1,803 उपशीर्षकोँ और 1,39,627 अभिव्यक्तियोँ की वृद्धि!

सतरह सालों की मेहनत
पिछले सतरह सालों की मेहनत के बाद बना यह बृहत् समांतर कोशइसी दिशा में सफल प्रयास है.इस में 988 शीर्षकों के अंतर्गत 25,562 उपशीर्षकोँमें 2,90,477अभिव्यक्तियाँहैं.समांतर कोशमें उपशीर्षकों के परस्पर संबद्ध तथा विपरीत क्रौस रैफ़रेंस नहीं थे.परिणामस्वरूप किसी किसी अभिव्यक्ति से संबद्ध या विपरीत शब्द उस के आस पास नहीं मिलते थे.उदाहरणार्थ-गणित ज्योतिष से फलित ज्योतिष बहुत दूर था. ऊपर नीचे पन्ने पलट कर भी पाठक भाग्य बताने वाली ज्योतिष तक नहीं पहुँच सकता था. इस का हल करने के लिए पुनरीक्षण की प्रक्रिया मेंबृहत् समांतर कोश मेँ 62,371 क्रौस रैफ़रेंस सम्मिलित किए गए हैँ.

समांतर कोश में वायुमंडल के पर्याय मात्र दिए गए थे. उन में एक पर्यावरण भी था.बृहत् में वायुमंडल के विभिन्न स्तरतो बताए ही गए हैं, पर्यावरण पर अपनेआप में स्वतंत्रख़ासी सामग्री भी है—

वायुमंडल - ध्वनिवाही आकाश, परिमंडल, पर्यावरण, फिजाँ, वातावरण, वियत, विहायस, वेष्टन, शब्दवाही आकाश, हवा.
क्षीण वायुमंडल - पतली पर्वतीय हवा, पतली हवा.
वायुमंडल स्तर (सूची) - आउटर वान ऐलन लेयर, आयन मंडल, इनर वान ऐलन लेयर, ई लेयर, उच्च वायुमंडल, ऐक्सोस्फ़ियर, ऐफ़-1लेयर, ट्रोपोपौज़, ट्रोपोस्फ़ियर, डी लेयर, थर्मोस्फ़ियर, निम्न वायुमंडल, मीज़ोपौज़, मैसोस्फ़ीअर, वान ऐलन लेयर, सल्फ़ेट लेयर, स्ट्रैटोपौज़, स्ट्रैटोस्फ़ियर.
उच्च वायुमंडल - इतर स्तर, उच्च वायुमंडल, विषम स्तर.
निम्न वायुमंडल - निम्न वायुमंडल, समस्तर.
आयन मंडल- आयनस्फ़िर, विद्युदणु मंडल, विद्युन्मंडल.
स्ट्रैटोस्फ़ियर - ओज़ोन आवरण, ओज़ोन पट्टी, समताप क्षेत्र, समताप मंडल.
मीज़ोपौज़ - मध्य सीमा, मैसोस्फ़ियर और थर्मोस्फ़ियर के बीच क्षेत्र.
स्ट्रैटोपौज़ - समताप सीमा, स्ट्रैटोस्फियर और मैसोस्फ़ियर के बीच क्षेत्र.
ऐक्सोस्फ़ियर - परामंडल, बहिर्मंडल, बाह्य मंडल, बाह्य वायुमंडल.
ट्रोपोपौज़ - क्षोभ सीमा, ट्रोपोस्फियर और स्ट्रैटोस्फ़ियर के बीच क्षेत्र.
थर्मोस्फ़ियर - ताप मंडल, तापवृद्धि मंडल, बाह्य वायुमंडल, मैसोपौज़ के ऊपर वाला क्षेत्र.
मैसोस्फ़ियर - मध्य मंडल, मध्य वायुमंडल, स्ट्रैटोपौज़ के ऊपर वाला क्षेत्र.
पर्यावरण - परिवेश, पृथ्वी पर जीवन संरक्षक परिदशा, फिजाँ, माहौल, वातावरण, हवापानी, हालात.
पर्यावरणरक्षा - परिरक्षण, पर्यावरण परिरक्षा, प्रकृति रक्षा, संरक्षण.
पर्यावरणप्रेम - पर्यावरणवाद.
पर्यावरणवादी - ग्रीन, पर्यावरण प्रेमी, प्रदूषणविरोधी.
आगे पढ़ें

Pages:

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in