पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

बाज़ार भरोसे खेती नहीं दुगनी करेगी आय

सच हुआ बेमतलब

नोटवापसी की बहस प्रधानमंत्री के लिए

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

किसान चुका रहे आर्थिक विकास की कीमत

सच हुआ बेमतलब

नोटवापसी की बहस प्रधानमंत्री के लिए

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > Print | Share This  

नदी को सोचने दो

पुस्तक अंश

 

नदी को सोचने दो: रश्मि शर्मा

नदी को सोचने दो


कविता संग्रह
प्रकाशक: बोधि प्रकाशन, एफ-77, सेक्टर-9, रोड नंबर-11, करतारपुरा इंडस्ट्रियल एरिया, बाईस गोदाम, जयपुर 302006
मूल्य: 120 रुपये.


ये पुनर्जन्म है

प्यार ने सि‍खाया मुझको बोलना
भर आई आंखों से आंसुओं को
ढलकाना
और उसके बाद खुश होकर नाचना
सुबह की आंख से गि‍रा
शबनम
प्यार का मोती बन जगमगा उठा

ये पुनर्जन्म है
तुमसे मि‍लना
जबकि
पहले भी स्लेटी आसमान
और
कलकल झरने खींचते थे
मुझे
मगर जीवन बसंत में
इतने फूल नहीं खि‍लते थे

अब जिंदगी के
होठों पर
एक खूबसूरत धुन है
और
रात के सन्नाटों में
एकांत का संगीत है

शाम बन ढल जाती है

आज फि‍र
शाम को
ठि‍ठुरता सूरज
पहाड़ों की गोद में
छुप गया

जैसे तुम्‍हारा ख्‍याल
आता है और
मन के कि‍सी कोने में
छुप जाता है

रात के साए में
मेरी पलकें
बरबस बंद होती हैं
और तुम्‍हारी याद
आधी रात को
टूटे ख्‍वाब-सी आती है

शाम की ठि‍ठुरन
रात का सन्‍नाटा
और इंतजार का उजाला
जाने कौन
मेरे आंचल में
भर जाता है

ये सर्दियों की लंबी रातें
ठंड के साथ
यादों के लि‍हाफ़ भी
ओढ़ा जाती है
फि‍र एक सुबह
शाम बन ढल जाती है.

17.12.2015, 16.05 (GMT+05:30) पर प्रकाशित


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in