पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

संघर्ष को रचनात्मकता देने वाले अनूठे जॉर्

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > बहस > बात पते कीPrint | Send to Friend | Share This 

प्रेम गली अति सांकरी

बहस

 

प्रेम गली अति सांकरी

कृष्ण बिहारी



प्रेम. यह शब्द जितना सम्मोहक है उतना ही भ्रामक भी. एक विचित्र-सी मनोदशा का नाम प्रेम है. यह कब होगा, किससे होगा और जीवन में कितनी बार होगा, इसका कोई अता-पता किसी को नहीं होता. जब-जब मुझसे किसी ने इसके बारे में सवाल किया है या मैंने खुद से पूछा है कि आख़िर यह मामला है क्या, तो मुझे केवल एक उत्तर ही देते बना है कि प्रेम वासना से उपजी मनोस्थिति है.

प्रेम नहीं सेक्स


मैं इसे कभी स्वीकार नहीं कर सकता कि प्रेम में वासना का कोई स्थान नहीं है. मैं न स्वयं से झूठ बोल सकता हूं और न दूसरों से. प्रेम में आदर्श और अशरीरी जैसी स्थिति की जो लोग वकालत करते हैं, वह मेरी समझ में केवल लाचारी है. हमारे देश में चूंकि प्रेम को लेकर समाज स्त्री- पुरूष की सोच में बंटा हुआ है और स्त्री आज भी यह कह पाने की स्वतंत्र स्थिति में नहीं है कि उसने अपने प्रेमी के साथ जिस्म शेयर किया है. इसलिए वह ज़ोर देकर झूठ बोलती है कि प्रेम में शरीर की मांग बेमानी है. वह डरती है कि यदि उसने शरीर के सच को स्वीकार किया तो उसका भविष्य नष्ट हो जाएगा.

मतलब यह कि यदि वह अपने पति से कहे कि उसने किसी और से बाखुशी संबंध बनाए हैं तो पति खो देगी और प्रेमी से कहे कि उससे पहले वह किसी और से जुड़ी थी और उस जुड़ाव में जिस्म शामिल था तो प्रेमी उससे दूर चला जाएगा. या हो सकता है कि नया प्रेमी भी उसके शरीर का उपभोग करने के बाद उसे कैजुअल समझे और ताना देते हुए किसी नई प्रेमिका की तलाश में किसी और दिशा में निकल जाए. इसलिए औरत हमेशा स्वयं को अनछुई या किसी अन्य से न छुई होने का भरम फैलाए रहती है.

असल में इस झूठ को वह इस तरह जीती है कि उसे यह सच लगता है कि किसी के साथ हमबिस्तर हो चुकने के बाद भी वह पाकीजा है. मैं नब्बे-पंचानबे प्रतिशत स्त्रियों की बात कर रहा हूं न कि उन पांच दस प्रतिशत की जिन्होंने समाज को ठेंगा दिखा दिया है. ये ठेंगा दिखाने वाली महिलाएं आर्थिक रूप से या तो स्वतंत्र हैं या फिर वेश्याएं हैं. वेश्या सबसे अधिक स्वतंत्र होती है.

मैं यहां यह भी कहना चाहता हूं कि आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर महिला पुरूष बदलने के मामले में वेश्याओं से भी आगे है और ज्यादा आजाद है. नब्बे-पंचानबे प्रतिशत स्त्रियां ज़िंदगी भर सती-सावित्री होने का ढोंग जीती हैं. ये करवा चौथी महिलाएं चलनी से चांद देखने के बाद ही अन्न-जल ग्रहण करती हैं.

मैं यहीं यह बात भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि भारतीय मर्द का मानस तो और भी बदतर है. वह इतना भी खुला नहीं है कि स्त्री की वास्तविकता को खुले मन से स्वीकार कर सके. वह तो और भी दकियानूस है. उसे नकली सती-सावित्री के साथ जीवन गुज़ारना संतुष्टि देता है. एक आज़ाद खयाल औरत के साथ प्रेम करना तो उसे जंचता है. कम से कम कपड़ों में उसे साथ लेकर घूमना अच्छा लगता है. उसका संसर्ग उसे रुचता है. लेकिन उसी लालित्य को वह अपनी पत्नी में नहीं बरदाश्त कर पाता. यह दोगली मानसिकता है. मैं जो परिस्थितिजन्य हालातों में अनेक महिलाओं के साथ अनेक स्तरों पर जीता आया हूं. अपनी पत्नी को वह आज़ादी देने के पहले हजार बार सोचूंगा और अन्तत: इस निष्कर्ष पर पहुंचूंगा कि बीवी को बीवी होना चाहिए. क्यों औरत केवल बीवी ही क्यों हो, यहां मैंने 'मैं’ का उल्लेख किया है. कारण साफ है कि प्रश्न करने वाले यह नहीं सोचेंगे कि ये विचार किसी रचनाकार के हैं. वे सीधे पूछेंगे कि तुम अपने बारे में बताओ कि क्या अपनी बीवी को दूसरे के बिस्तर पर जाने दोगे. मैं उनसे पूछता हूं कि क्या उनकी बीवी उनको बताकर किसी अन्य के बिस्तर पर गई है. यदि वे इसे जानते भी हैं तो क्या इस सच को दुनिया के सामने स्वीकार करेंगे.

मैं जानता हूं कि मैंने एक जटिल विषय को हाथ में लिया है. मैं प्रेम के इस पक्ष की अनदेखी नहीं कर सकता कि प्रेम पूर्ण समर्पण चाहता है. प्रेम में आना पाई का हिसाब नहीं होता कि प्रेम हाट में बिकने वाली वस्तु नहीं है. सबकुछ लुटा देने वाला ही प्यार कर सकता है. सीस उतारे भुंई धरे तब पैठे घर मांहि...वाली बात है. प्रेम का रास्ता तो तरवारि की धार पे धावनो है. प्रेम बनियागिरी नहीं है. वहां भी लिखा होता है- उधार प्रेम की कैंची है. प्रेम में उधार नहीं चलता. सब नकद होता है और लेन -देन में लेने से अधिक देने का मन होता है. सच तो यह है कि प्रेम में लेना कुछ भी नहीं होता. देना और केवल देना होता है.

प्रेम का सफर जब शुरू होता है तो हमसफर के अलावा सारी दुनिया बेमायने हो जाती है. किसी दूसरे का होना तो छोड़िए, अपना ही अता-पता नहीं होता. पल प्रतिपल प्रिय की मूरत आंखों में बसी रहती है. प्रेम भूख-प्यास भुला देता है. सच तो यह है कि प्रेम रुला देता है. यह इनसान को तिल- तिल घुला देता है. लेकिन यह सब होता है प्रेम के जन्म से और उसके नष्ट होने के बीच. क्षरण की प्रक्रिया के साथ. नष्ट होने से पहले प्रेम इनसान को नष्ट कर चुका होता है और यह सारी फजीहत देह की चाह के साथ जुड़ी है.
आगे पढ़ें

Pages:
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

संपादक

 
 रविवार के पाठक इस लेख पर अब आने वाली प्रतिक्रियाएं "सभी प्रतिक्रियाएं पढ़ें" लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं. - संपादक 
   
 

राहुल राजेश (rahulrajesh_2006@yahoo.co.in) दुमका/धनबाद/दिल्ली/अहमदाबाद

 
 रोशन प्रेमयोगी का पत्र एकदम छोटा लेकिन एकदम संपूर्ण है. कृष्णबिहारीजी जो बात अपने पूरे लेख में नहीं कह पाए या कहें,उन्हें पता ही नहीं, वह बात रोशन ने अपने इस नन्ही सी पाती में कह दी. शायद इससे सुंदर व्यवहारिक उदाहरण दुर्लभ है प्रेम और देह के संबंध को दृश्यगत करने के लिए. रोशन बधाई के पात्र हैं.
राहुल राजेश.
 
   
 

roshan premyogi (roshan.premyogi@gmail.com) lucknow

 
 कृष्ण बिहारी जी, आपने प्रेम के एक हिस्से को विस्तार से लिखा है, प्रेम घर की तरह होता है जिसमें बेड़रूम और बाथरूम के अलावा पूजाघर भी होता है, गेस्ट रूम भी. किसी दोस्त के साथ हमबिस्तर होना बेड़रूम का प्यार नहीं है, ना पूजाघर का प्यार. प्रेम देह से जुड़ा है लेकिन उसके आगे, पीछे, ऊपर-नीचे भी होता है. सेक्स होटल की तरह छणिक या कुछ दिन की ज़रूरत है. लेकिन प्रेम घर है, कई रूम वाला, जिसमें पूजाघर भी होता है. जिसमें सब जूता उतार कर सिर झुका कर जाते हैं.
रोशन प्रेमयोगी
 
   
 

pragya (pandepragya30@yahoo.co.in ) lucknow

 
 "मैं प्रेम के स्वरूप से इंकार नहीं करता. इंकार इस बात से भी नहीं कि प्रेम महत्त्वपूर्ण नहीं है, लेकिन मैं प्रेम को त्यागमय उदात्त और कुरबानियों का पुलिंदा नहीं समझता. यह एक अनिश्चयपूर्ण मानसिक स्थिति है, जिसमें सुख क्षणिक और दुख स्थायी है जबकि अपने आप में यह रिश्ता क्षणजीवी है."
हमने मात्र उदाहरण के लिए उपरोक्त पंक्तियाँ रखी हैं, जो इसी लेख का हिस्सा हैं.. पूरे लेख में इसी तरह के सूत्र वाक्य क्या पोर्नोग्राफी का हिस्सा लगते हैं ? लेखक के लिए किसी ने ७० साल का तो किसी ने कुछ अन्य अशोभनीय शब्दों का प्रयोग करने में कोई गुरेज नहीं किया है... सावन के अंधों को सब हरा हरा दिखाई दे रहा है. नेट पर क्या केवल पोर्नोग्राफी लिखी जाती है या प्रेम से जुडी हर बात का मतलब पोर्नोग्राफी होता है. इस लेख को पोर्नोग्राफी की संज्ञा देनेवाले लोग लगता है इस कदर उसमें डूबे हैं की प्रेम का मतलब पोर्नोग्राफी ही समझते हैं .आप . आँखें और कान खोलकर अगर यह लेख पढ़ते तो आपको अब तक किये गए अपने प्रेमों के सर्वांग का ज्ञान हो जाता ! अंगरेजी में टिपण्णी करनेवाले लोगो! मुझे तो संदेह है ! क्या इन्हें हिंदी ठीक से आती है ?यह भी एक ज़रूरी सवाल है क्योंकि मुझे नहीं लगता की इस लेख को पढ़नेवाला आदमी ओछी टिपण्णी करेगा. मतभेद होना स्वाभाविक है! यह लेख झूठ को जीने वाले पचा ही नहीं पा रहे हैं.. सच को लिखने वाले हमेशा खतरे उठाते हैं. इस लेख पर आयी टिप्पणिया इस बात को बार-बार साबित कर रही हैं.
 
   
 

kishore kant () mumbai

 
 This has become a routine to write on sexual activity and become controversial. The article has no merit. No knowledge, no beauty, no art no thought. An old man has got berserk at the age of seventy.There is no need for krishna Bihari to reply every reaction criticising for his non sense.Raviwar should be more careful. 
   
 

Vijaya Sharma () kanpur

 
 Krishna Bihari ji does not seem to be in his right state of mind. Hindi journalism is now full of these type of frustrated individuals who do explicit sexual writing for cheap publicity. It is a pity. 
   
 

manorma () kolkata

 
 These Internet magazines have given space to pornographers who have started writing in Hindi now. How can a person write so much of non sense and how can a magazine give him so much of space. Try to be discrete. 
   
 

राहुल राजेश (rahulrajesh_2006@yahoo.co.in) दुमका/धनबाद/दिल्ली/अहमदाबाद

 
 कृष्ण बिहारी जी,

आपका लेख थोड़ा अतिरेक में पड़ गया है. प्रेम और देह परस्पर पूरक हैं. न तो प्रेम देह के बिना पूरा है और न ही देह प्रेम के बिना प्रिय. आपने अगर Paulo Coelho की किताब Eleven Minutes पढ़ी हो तो उसमें एक ब्राजीलियाई कहावत है- “you need spice of love even to enjoy on bed.”

मेरा मानना है कि देह के मंदिर में ही प्रेम का दिया जलता है. और हम प्रेम के सागर में देह की नैया पर सवार होकर ही सुख पाते हैं. पर इस सबके बावजूद प्रेम केवल देह की चाह नहीं है. जैसे दाम्पत्य केवल संभोग की सामाजिक व्यवस्था नहीं है. किसी भी भावना की अनुभूति देह अर्थात इंद्रियों के माध्यम से होती है. पर कोई भी भावना केवल देह तक सीमित नहीं होती, न ही केवल देह के लिए होती है. संभोग में भी समान रुप से भोग का ही आशय है. और केवल वासना देर तक नहीं बांध सकती.

प्रेम एक दूजे को केवल देह के लिए पाना भर नहीं है. जीवन को साथ साथ जीने, साथ साथ अपने साझा सपनों को पूरा करने की जिद भी है. प्रेमचंद ने कहा है – “अगर प्रेम देह पर टिक जाए तो वह मर जाता है, और इससे आगे निकल जाए तो अमर हो जाता है”. इसलिए प्रेम न तो अशरीरी है, और न ही देह अपवित्र.जैसे देह में आत्मा है ,वैसे ही प्रेम में भी स्पर्श ,चुबंन,आलिंगन, मिलन, समागम की नैसर्गिक चाह. पर इसमें एक दुजे को सबकुछ दे देने की चाह भी होती है. केवल और केवल वासना नहीं.

राहुल राजेश.
 
   
 

krishnabihari (krishnatbihari@yahoo.com) abu dhabi

 
 नवोदिताजी,

सम्मान के साथ मैं भी कहना चाहता हूं कि जो कुछ आपने अपने प्रतिक्रिया में लिखा है, वही तो मैंने अपने लेख में कहा है. आपने ये निष्कर्ष कैसे निकाल लिए कि यह कुंठाग्रस्त व्यक्ति की भावनाओं की अभिव्यक्ति है. प्रेम वासनाहीन है क्या? प्रेम का क्षरण नहीं होता क्या?

मैंने पेड़-पौधों, पशुओं, भूत-प्रेतों और जिन्न-पिशाचों के प्रेम की बात नहीं की है. मैंने मर्द-औरत के प्रेम की बात की है. प्रारंभ से लेकर अंत तक प्रेम वासना से जुड़ा है.

कृष्ण बिहारी
 
   
 

navodita (navz22@yahoo.co.in) New Delhi

 
 with due regards, before writing or expressing about LOVE the writer should at least practice the LOVE as per the definition of Love.The present expressions are more like frustration of a failed venture. It is like the thing which you are unable to do can not be done at all. The emotions of devotion, dedication, caring, positivism about the lover do exist and in accomplished form, but only for those who believe in them and incorporate them with love for love. It is PRACTICALLY POSSIBLE. It is requested that do not generalize your inability and mutilate the most positive feeling on the earth. LOVE.  
   
 

krishnabihari (krishnatbihari@yahoo.com) abudhabi

 
 अनूप जी, मेरे लेख को बिना पैराग्राफ के पढ़ें. साथ ही इस सच के साथ कि सब कुछ नश्वर है. धोखे में न रहें और ना किसी को रखे. प्रेम उतना ही क्षणभंगूर है, जितना पानी केरा बुदबुदा अस मानुष की जात...देखत ही छिप जाएगा, ज्यूं तारा प्रभात.....! 
   
 

अनूप शुक्ल (anupkidak@gmail.com) कानपुर

 
 बिहारीजी, आप क्या लिखें है? कुछ समझै नहीं आया। इत्ता आंय,बांय, सांय भी लिख सकते हैं आप? जय हो। धन्य हैं आप। आपकी स्थापनाओं पर हम बातै नहीं कर रहे हैं। आपके लेख में इत्ते अंतर्विरोध हैं कि मजा नहीं आया देखकर।  
   
 

vidhu (aurat.vidhu@gmail.com) bhopal[mp]

 
 सबसे पहले तो आपके लेखन-अंदाज के लिए प्रणाम, सब कुछ ठीक लिखा है आपने, लेकिन कभी प्रेम वासना जनित हो सकता है और कभी दो लोगों के आपस में उठने-बैठने जुड़ने मिलने के बाद [यदि उनमे प्रेम है] तो वासना आड़े आ सकती है और कभी प्रेम अशरीरी भी हो सकता है .

जब हम कहते वो मेरा बहुत अच्छा दोस्त है इसके मायने तब यही होते हेँ पैरा तीन में जो बात कही गई वही बात पुरुषों पर भी तो लागू हो सकती है कि पुरुष भी ऐसे भ्रम फैलाए रहतें हेँ अपनी पत्नी-प्रेमिका के सामने. बहुत पहले खुशवंत सिंह भी प्रेम में शरीर की अनुपस्थिति को बेमानी कह चुके हेँ. ये सच भी है प्रेम में शरीर की उपस्थिति से प्रेम में आसक्ति से लेकर श्रद्धा तक के धरातल दोनों को मिलतें हेँ .

ये तो परिस्थितियाँ ही निर्धारित करती होंगी आभार अंत में गिरीश जी की बात का समर्थन करते हुए ये जरूर कहूँगी की मीता दास भी सही कह रही हेँ की प्रेम में देह दिल और प्रेम को कैसे अलग किया जा सकता है.
 
   
 

mita das (mita.dasroy@gmail.com) bhilai

 
 प्रेम में दिल धड़कता है. दिल देह में मौजूद होता है. फिर प्रेम, दिल और देह को भला किस तरह अलग कर सकते हैं. प्रेम का अंतिम सत्य मेरे अनुसार सिर्फ पिंजर नहीं देह में धड़कता हुआ दिल होना चाहिए. प्रेम बार बार नहीं होता. प्रेम हमेशा अपनी पूर्णता ढूंढता है और जब तलक वो ना मिले यह यात्रा ज़ारी रहती है. 
   
 

Anamika New Delhi

 
 धरती में सबको अपनी-अपनी मूर्खताओं और उन पर खुश रहने की छूट है. रही बात नया लिखे जाने की तो फिर हम सबको लिखना बंद कर देना चाहिए, क्योंकि सब कुछ लिखा जा चुका. कायदे से तो आपसे-हमसे पहले भी जीवन भी जिया जा चुका. तो फिर आत्महत्या करने चलें ? 
   
 

ashok (ashok.sheshma@gmail.com)

 
 प्रेम में त्याग है और अगर त्याग है तो वासना कहां ? ये दो विपरित स्थितियां हैं. 
   
 

rohit pandey (aboutrohit@gmail.com) gorakhpur up

 
 कृष्ण बिहारी जी आबूधाबी में हैं या भारत में. आपने एक बेहतर उपन्यास की भूमिका लिख दी है. पात्रों का चयन कर पूरा कर दीजिए. पाठनीय होगा, बिकेगा भी. देह के बिना रचना कैसी? जो लोग कह रहे हैं कि आपने नया कुछ नहीं कहा है उनसे पूछिए नया बचा क्या है? कहने का अंदाज़ जुदा हो सकता है. हां इसकी शिकायत है कि कृष्ण बिहारी जी ने प्रेम और देह को इसी तरह परोसा है जैसा अपनी कहानियों में करते हैं. उनके लिए संतोष की बात है कि प्रज्ञा और उषारानी भी सहमत है. बधाईयां. 
   
 

krishnabihari (krishnatbihari@yahoo.com) abu dhabi , uae

 
 मेरे लेख – प्रेम गली अति सांकरी पर कुछ प्रतिक्रियाएं पढ़ने को मिलीं. आलोचना का एक स्तर होता है. वह रचनाकार की उम्र, उसके रिटायर होने और खाली समय में आंय-बांय लिखने से संबंधित नहीं होती. ना तो वह इस सूत्र से जुड़ी होती है की इस विषय पर दादा सिगमंड फ्रॉयड ये पहले ही कह चुके हैं. इस तरह देखा जाए तो प्रायः सभी रासों पर सब कुछ पहले ही लिखा जा चुका है. इसीलिए यह कहना कि इसमें कुछ भी नया नहीं है, बचकानापन है.

मैंने लेख में कहा है कि – प्रेम अमर-वमर नहीं होता. यह अपने जन्म के बाद से ही क्षरण की दिशा में उसी तरह चल पड़ता है जैसे अन्य मनोदशाएं और संबंध, इसका उत्स वासना है. ये लेख स्त्रियों के प्रति निंदात्मक नहीं है. इसी की एक पंक्ति है कि किसी स्त्री के निर्माण में किसी पुरुष का कोई योगदान नहीं होता. योगदान उसी प्रतिभा और समग्र परिवेश का होता है. उसमें पुरुष अगर शामिल है तो समूची उपलब्धि का श्रेय पुरुष को नहीं जाता.

मैंने आर्थिक रूप से जिन स्वतंत्र स्त्रियों की बात की है वे मज़बूरी में कामकाजी महिलाएं नहीं हैं. मजबूरी में कामकाज़ी महिलाओं की स्थिति में उनका अपना ऐशो-आराम कहां से आएगा? उन्हें तो अपने लिए या अपने घर के अस्तित्व के लिए काम करना पड़ रहा है.

मैंने जिनकी बात की है वे filthy rich महिलाएं हैं और वही पुरुष बदलने के मामले में वेश्याओं से भी आगे हैं. 5 पेज का लेख पढ़ने के बाद भी अगर किसी को कुछ समझ में नहीं आता तो कह सकता हूं कि किसी शिक्षक के क्लास में वह बहुत कमज़ोर बच्चा है जिसे बार-बार समझाने पर सरल विषय भी समझ में नहीं आता. मैंने यह भी लिखा है कि प्रेम हिंसक होता है. प्रेम में हिंसा के उदाहरण रोज सुनने को मिलते हैं.

प्रेम में बर्दाश्त की ताकत नहीं होती. प्रेम में यह सब तब तक होता है जब तक वह स्वीकृत नहीं होता और यह स्थिति बर्दाश्त की नहीं – घुटन की होती है. प्रेम में लोग घुटे हैं, तड़पते हैं, कहने को एक-दूसरे पर मरते हैं. और यह सब देह की अनुपस्थिति की वजह से होता है. जैसी ही देह जुड़ी, प्रेम का रूप बिगड़कर विकृत होने लगता है.

मैं अपने लेख पर पूरी तरह कायम हूं. इसे मेरा जिद्दी होना ना समझा जाए बल्कि एक विचार के रूप में लिया जाए. बाकी यह की कुछ भी लिखने के लिए स्वतंत्र हैं.

कृष्ण बिहारी
 
   
 

pran sharma (sharmapran4@gmail.com) coventry,uk

 
 कृष्ण बिहारी का लेख जितना रोचक है उतना विचारणीय भी है. प्रेम और वासना दोनों का मन और तन से घनिष्ठ संबंध है यानी दोनों तन और मन से जुड़े हुए हैं. तन जो करता है वो मन की संतुष्टि के लिए करता है.

यूं तो प्रेम का दूसरा नाम त्याग है लेकिन स्वार्थ भी भावना जागी नहीं कि प्रेम लुप्त हुआ नहीं. एक बच्चा भी तब तक आपसे प्यार करता है जब तक खाने को उसे चॉकलेट या टॉफी मिलती है वरना वह भी अंगूठा दिखा देता है.
 
   
 

Prashant Pathak (prashantaajtak@gmail.com) UP

 
 प्रज्ञा जी, हो सकता हो कि आपको यही लगे कि सच से किनारा किया हो लेकिन पूरे लेख में ऐसा कुछ भी नहीं है जिस पर अपनी राय दे सकूं. प्रेम, नारी, सेक्स और वासना पर इससे भी गंभीर लिखा गया है. आपने भी पढ़ा होगा लेकिन इसमें ऐसा कुछ भी नहीं, जिसमे कुछ नया हो. जो राय कोई सन्देश ना दे सके, मेरे हिसाब से उससे किनारा करना ही सही है. आपके शब्दों को स्वीकार करने में मुझे कोई हर्ज नहीं है. हो सकता है कि छोटा मुंह छोटी बात बोल रहा हूं, अन्यथा ना ले.  
   
 

jayram (jay.choudhary16@gmail.com)

 
 दो शक्तियों का परस्पर संघर्ष प्रकृति का नियम है . इस संसार की उत्पत्ति ही दो विपरीत शक्तियों के संघर्ष का परिणाम है . प्रेम है तो घृणा भी ,दरअसल दोनों एक दुसरे से भिन्न न होकर एक ही पथ के पथिक हैं . प्रेम के बरक्स घृणा तो है पर वासना को प्रेम के विपरीत न मान कर उसी में समाहित जाना जाता है .

अज्ञेय ने इन दोनों शक्तियों के बारे में लिखा है : एक संयोजक है ; फूलों से भंवरों का मिलन ,विटप से लता का आश्लेषण ,रात्रि से अन्धकार का प्रणय आदि में ....

दूसरा विच्छेदक है ; आंधी से वृक्षों का विनाश ,दावानल से वनों का जलना ,व्याध द्वारा कपोतों के मारे जाने में आदि .

कभी-कभी दोनों प्रकार की शक्तियों का सम्म्मिलन एक हिन् घटना में होता है जब हम भौंचक रह जाते हैं .कुछ भी सहजता से समझना कठिन होता है प्रेम भी शायद एक ऐसी ही घटना है .

अपन भी अपना सच खोज रहे हैं. हाँ, अभी तक की खोज से इतना जरुर कहूँगा समाज में प्रचलित शब्दावली और उसके चलताऊ अर्थो के आधार पर प्रेम ,वासना ,सेक्स, काम आदि को समझना मुश्किल है .
 
   
 

Girish Billore (girishbillore@gmail.com) Jabalpur

 
 कृष्ण जी
जिस्म को लेकर प्रेम को परिभाषित करना सम्भव कदापि नहीं है न ही वासना से जुडा है प्रेम. कोई यकीन करे न करे प्रेम एक अदभुत भाव है. फ़्रायड से परिभाषित प्रेम फ़्रायड का व्यक्तिगत अनुभव मात्र है. प्रेम लिंग/वर्ग/वर्ण/ सबसे उपर है.....
 
   
 

usharai (usharai_22@yahoo.com) lucknow

 
 बहुत सुंदर लेख है. कम से कम किसी ने हिम्मत तो की. निश्चित रूप से यह लेख मार्ग दर्शन का काम करेगा. काफी हद तक प्रेम के अन्तर्विरोध खुल के सामने आये हैं.

मेरा मानना है कि प्रेम में आकर्षण का सबसे बडा कारण यह है कि जब हम प्रेम को देखते है तो किसी और को नही अपने को देखते है. उसकी आँखों से अपने आप को देखना, अपने विस्तार को देखना. फिर कतर व्योंत कहाँ रह जाता है. आप कि बात - प्रेम पूर्ण समर्पण चाहता है. चाहना बाकी कहाँ रहा. पहले प्रेम तो पूर्ण हो. दुनिया की बात मत कीजिये वहाँ स्वार्थ और अहंकार का बोलबाला है. प्रेम को समस्या बना कर छोड़ दिया गया है.

आज के समय में मानसिक अस्पताल सबसे ज्यादा कमाई कर रहे हैं. बहुत से लोग आज भी मध्य युग में रह रहें है. नई पीढ़ी की जो हालत है, वह इसीलिए है कि हम विषय को खोलना ही नही चाहते है.
 
   
 

pragya (pandepragya30@yahoo.co.in ) lucknow

 
 प्रशांत जी और राजेश अगवाल जी की टिप्पणी पढ़कर ऐसा लगा जैसे कि वे लोग सच को स्वीकार नहीं कर पाए और बात से किनारा कर गए. प्रेम जैसे विषय पर आज तक बहुत कुछ लिखा गया है. प्रेम के आगे पीछे के पक्ष इतने जटिल रहे हैं कि उसका विश्लेषण कभी नहीं हों पाया और वह हमेशा अधूरा ही रहा, लेकिन यह लेख पढ़कर लगा कि प्रेम का असली चेहरा लेखक ने बेनकाब कर दिया है.

आज तक प्रेम का असली स्वरुप खोजने में व्यर्थ ही जुटे रहे. प्रेम का असली रूप तो प्रेम विहीन है. प्रेम कभी स्त्री विरोधी नहीं होता है बल्कि प्रेम ही एकमात्र ऐसी चीज़ है जिसमें स्त्री पुरुष दोनों की बराबर कि साझेदारी होती है. प्रशांत जी आप ५ पेज पढ़ने में अपना समय एक बार अवश्य नष्ट कर लें.

सीस उतारे भुंई धरे तब पैठे घर मांहि. दुबारा प्रेम जैसी जरुरी और वाहियात बात आपको परेशान नहीं करेगी. पहली बार पूर्णता में प्रेम पर कुछ पढ़ने को मिला. लेखक को बहुत बहुत बधाई.
 
   
 

अशोक कुमार पाण्डेय (ashokk34@gmail.com) ग्वालियर

 
 लेख दरअसल कहीं पहुंचता नहीं है ना ही आज तक के विमर्श में कुछ नया जोडता है. कामकाजी महिलाओं को लेकर पहले पन्ने की टिप्पणी तो वीभत्स है और नारी के प्रति आपके दृष्टिकोण की परिचायक भी.

मेरा मानना है कि शरीर प्रेम का अभिन्न हिस्सा है परंतु बिना न्यूनतम कमिटमेण्ट का सेक्स असल में एक दूसरे से भी धोखा है. एक दूसरे की इज़्ज़त और पूरी तरह बराबरी के जनवादी आधारों पर ही प्रेम पनप सकता है.
 
   
 

Prashant Pathak (prashantaajtak@gmail.com) Uttar pradesh

 
 प्रिय बिहारी जी , पहले तो आप खुद ही इसे पढ़िए बड़ी मेहनत की आपने काफी समय भी लगाया होगा लिखने में , लेकिन क्या लिखा है आपने ,पहले तो इसे खुद पढ़े फिर मेहरबानी करके अगर आपको लगे की आपका मुद्दा बड़ा ही बेहतर है और आपकी कलम की ताकत से सामाजिक करवट आ सकती है तो दुसरो को भी पढने को कहें , तब ही सही है मेहरबानी करके खुद का समय ना ख़राब करे और दुसरो का भी ना ख़राब करें.

जो आपने लिखा है इसे सामाजिक परिवेश में हर कोई जानता है. कोई नया तीर आपने नहीं चला दिया हो सकता है कि आप को आपकी सेवा से सेवा मुक्ति मिल गयी हो तो इस बहस को आप आपने तक ही रखें. हां, यदि आप की बाहों में अभी वजन लेने का माद्दा हो आप नौजवान हो तो आपके प्रयास की मै सराहना करुंगा कि आप इससे बेहतर हिम्मत दिखाएं और ऐसे विषयों पर, जिनका अपना कोई महत्व हो. बाकि आपका विषय बेकार, बेमकसद है. कटु आलोचना के लिए माफ़ी. मुझे अधिक लिखना-पढना नहीं आता लेकिन आपके पांच पेज को पढने का मतलब समय नष्ट करना. ऐसा ना करने दें.
 
   
 

राजेश अग्रवाल (agrrajesh@gmail.com) छत्तीसगढ़

 
 पूरा लेख पढ़कर साफ नहीं हो पाया आप कहना क्या चाहते हैं. आपके निशाने पर महिलाएं ही क्यों हैं. सम्बन्धों का पाठ पढ़ने में कोई कमी रह गई है, जिस विषय पर आपने लिखा है वह कौतूहल का विषय तो कदापि नहीं है. 
   
 

Jyoti verma (jyoti.ddl@gmail.com)

 
 Truly said. A pure truth about love. Love is all about physical attraction friend. I agree with your thoughts. 
   
 

संजना सिंह चौहान स्टेशन रोड, रोहतास, बिहार, भारत

 
 आपने अपने इस लेख में अपनी उम्र नहीं बताई है। लगता है आप बहुत बुजुर्ग हो गये हैं, इसलिए आप इस तरह की बात कर रहे हैं। जब तक जवानी रही, तब तक सब कुछ किया और अब उम्र होने के बात आयें-बायें लिखने लगे।

प्र और एम का युग्म रूप प्रेम कहलाता है। प्र को प्रकारात्मक और एम को पालन करता भी माना जाता है। "ऐं" शब्द दुर्गा सप्तशती के अनुसार पालन करने वाले के रूप में माना जाता है। निस्वार्थ भाव से चाहत भी प्रेम की परिभाषा में सम्मिलित है। एक कहावत में प्रेम शब्द की परिभाषा बताई गयी है,-"प्रेम प्रेम सब कोई कहे,प्रेम ना जाने कोय,ढाई अक्षर प्रेम को पढे से पंडित होय"।
 
   
 

कुमार केवल नई दिल्ली

 
 आपने कोई नई बात नहीं कही है कृष्ण जी. फ्रायड की मानें तो प्रेम भी सेक्स का ही एक रूप है. 
   
 

अभय खाखा टोरंटो, कनाडा

 
 ईसा मसीह ने कहा था – “एक दूसरे को वैसे ही प्रेम करो जैसा मैं तुमसे करता हूँ. अपने मित्र का जीवन बचाने के लिए स्वयं मृत्यु का वरण कर लेना ही सबसे महान प्रेम है”.(जॉन 15:12, 13) 
   
[an error occurred while processing this directive]
 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in