पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > अंतराष्ट्रीय > संस्मरणPrint | Send to Friend | Share This 

ऐसे हुई लादेन से मुलाकात

संस्मरण

ऐसे हुई लादेन से मुलाकात

हामीद मीर, इस्लामाबाद से

 

दुनिया भर में आतंक का पर्याय बन चुके ओसामा बिन लादेन की तलाश में क़ाबुल से लेकर जलालाबाद और तोरा-बोरा की पहाड़ियों से वजीरिस्तान तक पिछले कई सालों से अमरीकी फौजें अपने जूते चटकाती फिर रही हैं. पाकिस्तान के तेज़ तर्रार पत्रकार और जिओ टीवी के संपादक हामिद मीर न केवल लादेन का ठिकाना पाने में कामयाब हुए, उन्होंने लादेन का साक्षात्कार भी किया. 9/11 के बाद ओसामा बिन लादेन का तीन बार साक्षात्कार लेने वाले दुनिया के अकेले पत्रकार हामिद मीर शुरुवाती अंकों से ही रविवार के लिए लिख रहे हैं. भारत-पाकिस्तान में पहली बार रविवार डॉट कॉम में लादेन से उनकी मुलाकात का यह ब्यौरा प्रकाशित हो रहा है.

ओसामा बिन लादेन के साथ हामीद मीर


सात साल पहले 9/11 को एक आदमी ने दुनिया बदल दी थी. दुर्भाग्य से इस बात की कोई गारंटी नहीं दी जा सकती कि वह इसी तरह के और हमलों के जरिए 9/11 के बाद की दुनिया को नहीं बदल सकता. दुनिया की एकमात्र महाशक्ति ने उसे अपना सबसे खतरनाक दुश्मन करार दिया है और इस महाशक्ति को एक दशक से भी ज्यादा समय से उसकी तलाश है. लेकिन हकीकत यह है कि ओसामा बिन लादेन यानी दुनिया का सबसे वांछित शख्स 11 सितंबर 2001 के बाद अफगानिस्तान में कई बार मौत से बच निकलने में कामयाब हो चुका है.

कई बार तो वह दुनिया की सबसे अत्याधुनिक उपग्रह प्रणाली और सबसे खतरनाक मिसाइलों को अपनी चालाकियों के जरिए झांसा देने में कामयाब हो गया तो कई बार वह महज कुछ मिनट के फासले से दुश्मनों के हमलों से सिर्फ अपनी किस्मत की वजह से बच निकला.

वास्तव में तालिबान और अल कायदा पर अमेरिकी हवाई हमले 7 अक्तूबर 2001 को शुरू हुए थे और 8 नवंबर 2001 को ओसामा बिन लादेन को डा. अयमान अल जवाहरी के साथ काबुल में देखा गया था. ये लोग अल कायदा की एक बैठक और 6 नवंबर को अफगानिस्तान के उत्तरी शहर मजार-ए-शरीफ में मारे गए उज्बेक कमांडर जुम्मत खान नामंगनी की शोक सभा में हिस्सा लेने के लिए जलालाबाद से वहां आए थे.

मेरी फोटो नहीं लेना
नामंगनी सोवियत सेना का पूर्व कमांडर था और 1980 के दशक के आखिर में अल कायदा से जुड़ गया था. वह अमेरिका समर्थक नार्थन एलायंस का विरोध करने वाले तालिबाल और अल कायदा के लड़ाकों की अगुवाई कर रहा था.

जबकि उत्तरी अफगानिस्तान में लड़ाका अब्दुल राशिद दोस्तम और पूर्वी और दक्षिणी अफगानिस्तान में मोहम्मद अतीफ विरोध का नेतृत्व कर रहे थे. पहले आतिफ की और उसके बाद नामंगनी की मौत हो गई. उनकी मौत अमेरिका के शत्रुओं के लिए बड़ा धक्का थी. मोहम्मद आतिफ और नामंगनी की मौत के बाद अल कायदा की बहुराष्ट्रीय मुस्लिम आर्मी बदला लेने पर उतारु हो गई.

8 नवंबर को काबुल में अल कायदा के चुनिंदा नेताओं की बैठक में ओसामा बिन लादेन ने इन दोनों को गहरी श्रद्धांजलि अर्पित की. इसी बैठक में उसने हालात की समीक्षा भी की. ठीक इसी दिन दुनिया के सबसे वांछित शख्स से काबुल में साक्षात्कार लेने के लिए समय दिया गया था.

मुझे मेरे अपने कैमरे से बिन लादेन की एक भी तस्वीर लेने की इजाजत नहीं दी गई. उसके एक बेटे अब्दुल रहमान ने अपने पिता के साथ मेरी तस्वीर खींची. अब्दुल रहमान ने अपने खुद के कैमरे से यह तस्वीरें खींची और फिर मुझे उसकी फिल्म दे दी.

सुरक्षा के इस इंतजाम के बावजूद एक महिला जासूस अनेक महत्वपूर्ण अरब लोगों की काबुल में इस अप्रत्याशित आवाजाही पर गौर करने में कामयाब हो गई. मुझे उस समय की एक घटना याद है जब मैं लादेन और डा. जवाहरी के साथ चाय पी रहा था.

बिन लादेन ने मुझे याद दिलाया कि उसके साथ यह मेरा तीसरा साक्षात्कार है. उसने मुझे बताया कि पहले साक्षात्कार के बाद प्रकाशित रिपोर्ट में मैंने अनुवाद की कुछ गलतियां कर दी थीं लेकिन उसने इसके साथ ही यह भी कहा कि उसे कहीं भी यह नहीं लगा कि लेख को गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया.

उसने उम्मीद जताई कि इस साक्षात्कार में ऐसी गलतियां नहीं करुंगा. जिस छोटे से कमरे में हम चाय पी रहे थे, वहां अल कायदा के 20 और नेता भी मौजूद थे. उस दिन की बातचीत में साफ हो गया कि उनमें से अधिकांश लोगों की राय थी कि अमेरिका समर्थित नार्थन एलायंस सिर्फ जनरल परवेज मुशर्रफ जिन्होंने अमेरिकियों के लिए पाकिस्तान में हवाई ठिकाने मुहैया कराएं है, के समर्थन के कारण ही काबुल के नजदीक पहुंचने में सफल हुई है.

नीले बुरके में जासूस
अचानक कमरे में अल कायदा का एक अरब लड़ाका कमरे में दाखिल हुआ और उसने अपने नेताओं को बताया कि उन लोगों ने बैठक स्थल से कुछ मीटर की दूरी पर नीला बुरका पहने एक महिला को पकड़ा है. वह भिखारन के भेष में जासूसी कर रही थी. मैं जहां बिन लादेन का साक्षात्कार कर रहा था, उस स्थल के बाहर चौकसी कर रहे अल कायदा के सिक्योरिटी गार्ड्स से भी वह पैसे मांग रही थी.
आगे पढ़ें

Pages:
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

naresh tyagi (nt59@in.com) delhi

 
 रामायण में रावण और अन्य राक्षसों का वर्णन है, जो कि ऋषि मुनियों, आम आदमी की हत्या करते हैं, आतंक फैलाते हैं. मांसाहारी हैं. इस तरह ही ओसामा भी केवल राक्षस ही है, या इस को जंगली सुअर मान सकते हैं. इसीलिए जितनी जल्दी इसका वध हो जाए इस दुनिया के लिए उतना ही अच्छा है. 
   
 

vinod jodhpur

 
 interview with Laden is very interesting. This is achievement of this interview that Laden has not been glorified.  
   
 

dinesh kumar garg (feedback@raviwar.com)

 
 hamid mir has done wonderful journalism & he certainly deserves our praise for bringing forth stories on terrorists claiming themselves champions & defenders of true Islamic faith.dinesh kumar garg.Lucknow  
   
 

mahendra lalas

 
 excellent that raviwar's online 
   
 

anwar suhail (anwarsuhail_09@yahoo.co.in)

 
 mir bhai
aadab
laden ya ki us jaise terrorist ko glamorise karna achcha nahin hai. islam ko saari duniya me badnaam karne me laden ki bhumika vishes hai
aap terrorism ke against war kar rahi taqton ko highlight karen to achcha
aapka
anwar suhail
 
   
 

Dr.Priya Saini (shambhavi_priya@yahoo.co.in)

 
 Meer Sahib,
Mujhy nahi lagta ki aap ki ye mulakaat koi bahaduri ka kaam hai.Ak aatankvadi se milna os ke sath baithna kahan ki bahaduri hai. Sawal ye nahi hai ki os ke adarsh sahi hain ya galat.Par sach to ye hai ki vah Insaaniyat ka dushman hai.Apni baat manvany ke liye ya badla lene ke liye nirdoshon ki hatya karny wala kisi bhi tarah sahi nahi ho sakta.Os ka sakshatkar lena kon si bahaduri hai...main samajh nahi paaye???
 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in