पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

माफ़ी की वह माँग तो भाव-विभोर करने वाली थी

संघर्ष को रचनात्मकता देने वाले अनूठे जॉर्

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > साहित्य > कहानीPrint | Send to Friend | Share This 

रिबाऊन्ड

कहानी

रिबाऊन्ड

पुष्पा तिवारी

 

“पापा ने बिल्कुल ठीक किया तुम्हारे साथ. तुम हो ही ऐसी.”

औरत


क्रोध से तमतमाये चेहरे ने तर्जनी हिला-हिलाकर कहा और फिर फूट फूटकर रो पड़ा. मैं स्तब्ध थी! रोते-रोते भी शब्द अपनी सीमाएँ तोड़ते जा रहे थे. लेकिन मैं तो पत्थर-सी बैठी केवल उसे, केवल उसे देख रही थी. चलती जुबान, बिखरे बाल, चलते हाथ-पाँव जो आलमारी के तह लगे कपड़ों को उठा-उठाकर आंगन में फेंक रहे थे. बीच-बीच में आंसुओं के साथ बह आती नाक को बाँह से पोंछती जा रही थी.

आंसुओं के खर्च पर उसे कभी कोई कंजूसी नहीं रही. जिन्दगी शुरू हुई है अभी उसकी. अभी तो न जाने कितने बहाने पड़ेंगे. इस समय तो वह क्षण में तोला बनी हुई अपनी मां को ज्यादा से ज्यादा दुख देना चाह रही है. पता नहीं क्यों, कहाँ का दुख उसके अपने अंदर उग आया है, जिसे वह क्रोध के जरिए मुझ पर उड़ेल रही है. बिल्कुल अपनी ममता की तरह. मुझे बात अंदर कहीं चुभ गई तभी तो मैं हिल-डुल नहीं पा रही. हाथ-पैर, शरीर सुन्न से रजाई के अंदर न रो पा रहे हैं, न चुप ही रह पा रहे हैं. करीब पौना आधा घंटे का यह नाटक अपने क्लाइमैक्स में पहुँच कर धीरे-धीरे शांत हो रहा है. गनीमत है कि इस समय घर में कोई नौकर-चाकर नहीं.

धुले प्रेस किए कपड़ों का बिखरा ढेर, आँगन में साड़ियों के रंग-बिरंगे चेहरों में मुझे मुँह चिढ़ा रहा है. धुँधलका घिरने-घिरने को है, इन कपड़ों को सबके आने के पहले समेटना है. यह मेरी बेटी है, जिसके प्यार में मैं सराबोर हूँ. यह कोई कहने की बात नहीं कि इसे मैं अपनी दोस्त समझती हूँ तभी तो हम दोनों के बीच कुछ भी छुपा नहीं है. अब तक इसे सलाह देती-लेती रही हूँ. सच मानिए, यह आज तक भी मेरी दोस्त बेटी ही है. हमेशा अपने पापा के व्यवहार पर मेरा पक्ष लेती रही. कभी-कभी मेरे सामने उनकी आलोचना भी करती शायद यही बात उसको विश्वसनीय भी बनाती रही. दुनिया के लेटेस्ट फैशन और नॉलेज से मुझे परिचित कराती. उसकी वजह से मैं दोनों पीढ़ियों में समान गति से विचरण करती रही. तरह-तरह की चीजें बनाती. यहां तक कि मेरे गर्व के लिये अपनी पढ़ाई से ढेरों गोल्ड मैडल लाती.

आज इस एक साधारण वाक्य को कहकर उसने खुद को मुझसे अलग कर लिया. मुझे लगा आज उसने अपनी नाल मुझसे झटक कर काट दी. मेरे अंदर कुछ खो देने का दुख तारी हो गया.

अन्दर की गूँजती आवाजें अब शोर बनती जा रही हैं. कान तमतमाने लगे. मैं स्तब्ध शोर में प्रवेश करने लगी. अचानक ही पूरे शरीर में सिहरन हुई और मैं रजाई फेंककर झटके से उठी. मन से ज्यादा आंगन में पड़े कपड़ों की चिन्ता हो रही है. कोई अगर इस बीच आ गया तो! बहाने भी नहीं मिलेंगे मुझे. क्या बताऊँगी? इस छोटी-सी लड़की ने कितना बवाल मचा रखा है.

अब तो वह बात भी याद नहीं आ रही जिस पर यह झगड़ा शुरू हुआ था. उसका क्रोध पहली बार देखा और क्रोध से काँपती उसकी आंखें भी. मुझे विश्वास नहीं हो रहा कि यह सब मेरी बेटी ने किया है. यह मेरी गुड़िया इतनी बड़ी हो गई. मर्मान्तक वाक्य कहना कहाँ सीखा. यहां तो मैंने किसी को दुख न पहुँचाने की शिक्षा दी है. एक पल के लिए भी नहीं सोचा कि जिस मां के दिल दिमाग में केवल वह, उसके सपने, उसका कॅरियर, उसका प्रेजेंटेशन रहता हो, उसे..उसे...उसने इतनी कड़ी बात कह दी. सुनने में छोटी-सी बात लेकिन जिसका अर्थ कितना गहरा. उस बेगाने समय को मैं इसके सहारे ही बिता पाई थी.

इसने ही मुझे वह शक्ति दी थी, जब दुखों से टूटकर मैं अपनी गुफा में घुस गई थी. दिन-रात मेरे आंसुओं को पोछते आगे-पीछे घूमती. मतलब उन बातों का नहीं, उनसे जुड़ी भावना का है कि जिस भँवर से वह मुझे निकालकर लाई थी बिना सोचे समझे उससे भी बड़ी भँवर में मुझे ढकेल दिया. मेरा दिमाग सुन्न है और मन... उससे शायद खून रिस रहा होगा. पिंजर जो कुछ भी चल रहा है, वह मुझे सोचने पर मजबूर कर रहा है.

घिसटती सधी चाल से कपड़े लाकर मैंने पलंग पर रखे. मैं अभी दूसरे खेप के लिए मुड़ी ही थी कि धम्म की आवाज के साथ सारे कपड़े फिर आंगन में बिखर गए. उसके रौद्र रूप की कसी कमर देखकर मैं हक्की-बक्की कभी उसे, कभी आंगन को देख रही थी.

बँगले के अंदर एक बेडरूम और उससे लगा आंगन, इस घटना का वैन्यू. आवाजें तेज नहीं कि बाहर कोई सुन सके. आंगन में रहने वाली गिलहरी हलचल में तेज हो आई. बेचैनी से बार-बार पेड़ में चढ़ना-उतरना मैं देख पा रही थी.

नगर निगम का नल बह रहा था. पानी के फालतू बहने पर मन हुआ, उसे बंद कर दूँ. धुँधलका दिखने से बत्ती जलाने के साथ तुलसी पर दीया रखने की याद भी आई. किसके लिए मैं दीया जलाऊँ, इस घर के लोगों के लिए जो जब-तब दंश देते रहते हैं. एक ही लड़की वो भी शादीशुदा. हम दो या कभी-कभी के लिए तीन. निरर्थकता का बोध मुझमें आता-जाता है. बेचैन गिलहरियाँ मुझे सहला रही है. मेरी भावनाओं को मैं गिलहरी में देख रही हूँ. उसकी संवेदनशीलता में मैं खुद कहीं हूँ. इसकी बेचैनी शांत होने का नाम नहीं ले रही. दाना-पानी उसके मुँह में नहीं केवल इधर-उधर घूमती उसकी गरदन और झूलती पूँछ. पेड़ पर बार-बार चढ़ना उतरना इसकी बेचैनी दूर करने, मैं क्या करूँ?
आगे पढ़ें

Pages:
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Himanshu (patrakarhimanshu@gmail.com) , Noida

 
 Have you ever read the talk between John Carlin—president of Funny Garbage and Steven Heller, editor of VOICE. just read this one para-

Heller: When I was a teenager the term “generation gap” made it to the cover of Life magazine, and there seemed to be a truly profound schism between what the pre-World War II adults believed and practiced and how we baby boomers acted. Our aesthetics, tastes and styles were totally different and so foreign to our parents—indeed, downright alien. Now the generations seem to blend together. Our music is similar to the next generation’s music; our tastes in film, literature, art and design are almost indistinguishable, save for the personalities behind them. Sure, there are codes and languages that are unique to this or that age group, but for the longest time I have not heard the term “generation gap.” Recently you said we’ve entered the first such gap in decades. Please explain.

Carlin: In the late ’90s I became disappointed that there wasn’t a gap between the generations older and younger than mine. All the conditions seemed to be there: the emergence of a ubiquitous new technology (digital reproduction replacing mechanical reproduction); an emerging shift in global context; a rise in social consciousness regarding the environment and human rights (at least for certain groups); and a robust economy (at least on the coasts of the United States). I was frustrated for the reasons you mention; there didn’t seem to be a discernible difference in how people looked or what kinds of music or movies they enjoyed based upon age. Yikes, they were still playing a lot of the same music on the radio as when I was in high school!
 
   
 

Abhishek kashyap , Noida

 
 Teenagers are always talking about their freedom, usually in context of how their parents are obstacles. The minute you give children a curfew, or object to their clothes or hair, or do not allow them to go away for the weekend, you become the evil dictator who will never understand. Suddenly, 'generation gap' becomes a buzzword. It's as if one day you and your child find yourselves on opposite sides of the fence and there's no meeting ground. Each one feels that the other is speaking a foreign language.  
   
 

Purnima Roy , jaisalmer

 
 आपकी कहानी केवल एक स्त्री का दुख भर नहीं है. आपने बहुत गंभीरता के साथ पूरे सामाजिक बदलाव को भी पकड़ा है. जिस तरह से हम सब इस समय के लिये अभिशप्त हैं, वह कहीं गहरे तक अवसाद में ले जाने वाला है. 
   
 

पूर्णिमा वर्मन शारजाह

 
 बहुत ही मर्मस्पर्शी कहानी है। एक नया विषय उठाया है और उसको निभाया भी अच्छा है। आशा है और कहानियाँ भी पढ़ने को मिलती रहेंगी। 
   
 

Hidden Flowers bhilai

 
 ये कहानी, कहानी नहीं, जिंदगानी सी लगती है
माँ का दर्द, घबराहट, क्रोध, भय, बेचैनी सब दिखाती है.
कहीं दर्द तो कहीं अफ़सोस- है यही ज़िन्दगी के पड़ाव में,
और चलता है हर पीढ़ी में- दर्द, उबरता है हर स्त्री में!
क्या पाया होगा माँ के दिल ने कुछ थमाव?
कुरेद के मरहम बिना कुछ कच्चे घाव?
निकला है जो यह लावा तो आज इससे बह जाने दो,
खिलेंगे यहाँ फिर जूही चमेली-होंगे और बहुत से प्रसाव!
माँ बेटी का बड़ा सा युद्ध या छोटी सी नोक झोंक
चलती रहेगी सदियों और प्रेम बढ़ता रहेगा कोख बाए कोख!
 
   
[an error occurred while processing this directive]
 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in