पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

संघर्ष को रचनात्मकता देने वाले अनूठे जॉर्

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >मुद्दा >सियासत Print | Share This  

सूचना आयुक्त ही दबा रहे हैं जानकारी

मुद्दा

 

सूचना आयुक्त ही दबा रहे हैं जानकारी

सचिन जैन और रोली शिवहरे भोपाल से


हमने तंत्र और उसे चलाए रखने वाले लोगों की जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिये सूचना के अधिकार कानून की पैरवी की थी, परन्तु जब सरकार इसे लागू करने के लिये जिम्मेदार आयोगों में नौकरशाहों को नियुक्त करने लगती है तब हमें चौकन्ना हो जाना चाहिये.

RTI


अपने सेवाकाल के करीब तीस सालों या 12775 दिनों में तंत्र के हिस्से के रूप में काम करते हुये जिन लोगों ने उसे गैर जवाबदेह बनाया, अधिकारों के उल्लंघन किये, निजी और राजनैतिक हितों के लिये बार-बार नियम कानूनों का समायोजन करते हुये राज्य के हर काम को न्यायोचित साबित करने के लिए दिन-रात एक किया हो, उन्हें उसी तंत्र पर निगरानी के लिए का जिम्मेदार कैसे बनाया जा सकता है? जो व्यक्ति पारदर्शिता के सिद्धान्त पर सामान्यत; अविश्वास करता हो उसे सूचना आयोग में आयुक्त बनाकर तंत्र में पारदर्शिता लाने की संवैधानिक जिम्मेदारी सौंपना राज्य का षडयंत्रकारी कदम माना जाना चाहिये.

सूचना आयोग में आयुक्तों की नियुक्ति और उस पर नौकरशाहों को बिठाने को लेकर कानून बनने के समय से ही बहस चल रही है. सामाजिक कार्यकर्ता श्री अन्ना हजारे का कहना है कि ‘‘ऐसे सरकारी नौकरों को सूचना आयुक्त बना दिया गया है जो जिंदगी भर सर-सर बोलते रहे हैं. आखिर ऐसे अधिकारी अपने वरिष्ठों और साथियों के विरूद्ध कैसे फैसले दे सकते हैं.”

सूचना के अधिकार कानून लागू होने के पांच सालों बाद अगर इसका मूल्यांकन किया जाये तो इसमें सबसे बड़ी बाधा नौकरशाही ने ही खड़ी की है. सोचने और गौर करने वाली बात यह है कि हमारे जैसे लोग सूचना आयोग में कब और क्यों जाते हैं या वहां जाने की जरूरत कब पड़ती है. विकासखंड, जिला या राज्य स्तर पर लोक सूचना अधिकारी प्रशासनिक अधिकारी हैं, शिक्षा अधिकारी हैं, इंजीनियर हैं, पुलिस अधिकारी हैं, सचिव या संचालक हैं. इनके पास जानकारी और उसे छिपाने के साधन भी, लेकिन जब भी वे हमें सूचना पाने से वंचित करते हैं तब एक संवैधानिक अधिकार होने के नाते हम सूचना आयोग के पास जाते हैं.

हमें उम्मीद रहती है कि सूचना आयोग सूचना छिपाने वाले अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करेगा और जवाबदेही तय करेगा, लेकिन हम पाते हैं कि न्याय की लड़ाई में सूचना के हक की बात करने वाले 2-1 से पीछे हैं.

इस कानून के क्रियान्वयन के तीन केन्द्र है- पहला सूचना मांगने वाला, दूसरा सूचना देने के लिए जवाबदेह अधिकारी, जो सरकार का नुमाइंदा है और तीसरा 12775 दिनों तक सरकार का हिस्सा रहा नौकरशाह जो, सेवानिवृत्ति के बाद सूचना आयुक्त बना दिया गया है.

जब सूचना के हक की लड़ाई आयोग में चलती है तब स्वाभाविक रूप से आयुक्त की सहानुभूति सरकार के लोक सूचना अधिकारी के प्रति होती है. ऐसे में हमारे जैसा सूचना मांगने वाला अल्पमत में आ जाता है.

सूचना के अधिकार कानून के बाहर निकलकर देखा जाये तो हमारे देश में कई ऐसे कानून बने हैं जिनका ठीक से अमल हो तो बहुत से लोगों का जीना सुविधाजनक हो जायेगा. मानवाधिकार आयोग/महिला आयोग आदि तमाम अहम् संस्थाएं हैं जो कहने को स्वायत्त हैं परन्तु इनका रिमोट कंट्रोल सरकार के पास ही रहता है. कोई भी संस्थान कितना भी अच्छा क्यों न हो, सरकार उसमें एक अयोग्य व्यक्ति को बिठाकर उसका भट्ठा बिठा देती है.

हमने देखा है कि केन्द्र और राज्यों में सरकारों ने बहुत से आयोगों को इसी तरह लगभग सफेद हाथी बना दिया है. सेवानिवृत्त नौकरशाहों की नियुक्तियां इसलिए इन पदों पर की जाती हैं ताकि मानवअधिकारों को सीमित किया जा सके. एक गैर सरकारी संगठन के विश्लेषण के मुताबिक देश के 28 राज्यों में कुल 103 आयुक्त नियुक्त हैं, उनमें से 65 पर सरकारी अफसर राज कर रहे हैं. साफ है कि सरकारी अफसरों को नियुक्त इसलिये किया जा रहा है जिससे कि सूचना के अधिकार को सीमित किया जा सके और पारदर्शिता, जवाबदेही को तंत्र में प्रवेश होने से रोका जा सके.

वर्ष 2010 के बडे घोटालों- 2जी स्पेक्ट्रम, कॉमनवेल्थ, आदर्श हाउसिंग के उजागर होने के पीछे सूचनाएं ही थीं. नीरा राडिया ने केवल सरकार से सूचना निकलकर कारपोरेट घरानों तक पहुंचाई और उन्हीं सूचनाओं के बल पर कुछ खास औद्योगिक घरानों, ने सार्वजनिक सम्पत्ति के अरबों रूपये अपने निजी खातों में स्थानांतरित कर लिये.

आदर्श हाउसिंग घोटाले में राजनेता, नौकरशाह और यहां तक कि सेना के वरिष्ठतम अधिकारी भी हितग्राही बन गए क्योंकि उनकी पहुंच सूचनाओं तक थी. उसी घालमेल में महाराष्ट के सूचना आयुक्त और मानवाधिकार आयोग के सदस्य भी शामिल हो गये. उन्हें भी गलत लाभ पहुंचाया गया क्योंकि सरकार और आयोगों के शक्ति सम्पन्न अधिकारी (आयुक्त या सदस्य) एक दूसरे को अपने-अपने हितों को साधने में मदद करते हैं.
आगे पढ़ें

Pages:
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Dr.Shanker Rao Burla [] mumbai

 
  This is the fact that can easily be eradicated.I passed my B Sc;MBBS;MD (Anesthesiology) from Raipur.Chattisgarh.It took me from 1988 Dec.27 to 12th Dec.2007.to get my permanent IMR registration.I faced lot of mental trauma and spend lots of time,money as well. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in